September 25, 2022
Lufthansa: लुफ्थांसा एयरलाइन के ग्राउंड स्टाफ ने की हड़ताल, 1,000 से अधिक उड़ानें कीं रद्द

Lufthansa: लुफ्थांसा एयरलाइन के ग्राउंड स्टाफ ने की हड़ताल, 1,000 से अधिक उड़ानें कीं रद्द

Spread the love

जर्मनी (Germany) के प्रमुख एयरलाइन डॉयचे लुफ्थांसा (Deutsche Lufthansa) का कहना है कि वह बुधवार के लिए निर्धारित ग्राउंड स्टाफ द्वारा एक दिवसीय वॉकआउट से पहले 1,000 से अधिक उड़ानें रद्द कर रहा है. हड़तालों और कर्मचारियों की कमी ने पहले ही कई एयरलाइनों को हजारों उड़ानें रद्द करने के लिए मजबूर कर दिया है.

हवाई उड़ान रद्द होने से बढ़ी मुसीबत

Aljazeera से मिली जानकारी के मुताबिक, लुफ्थांसा (Lufthansa) ने बड़े पैमाने पर हड़ताल कर दी है. हड़तालों और कर्मचारियों की कमी ने पहले ही कई एयरलाइनों को हजारों उड़ानें रद्द करने के लिए मजबूर कर दिया है. और प्रमुख हवाई अड्डों पर घंटों लंबी कतारें लगा दी हैं. जिससे छुट्टी मनाने वाले लोग COVID-19 से संबंधित लॉकडाउन के बाद यात्रा करने के इच्छुक हैं.

बता दें की, लुफ्थांसा (Lufthansa) मंगलवार को कहा कि, उसने अपने फ्रैंकफर्ट हब में 678 उड़ानें रद्द कर दी हैं. जिनमें से अधिकांश बुधवार के लिए और म्यूनिख (Munich) में 345 उड़ानें रद्द कर दी गई हैं. लुफ्थांसा ने कहा कि इस कदम ने 130,000 से अधिक यात्रियों को प्रभावित किया है. उन्होंने कहा कि गुरुवार और शुक्रवार को कुछ और रद्दीकरण और देरी हो सकती है.

गर्मी की वजह से भी रद्द हुईं थीं उड़ाने

लुफ्थांसा (Lufthansa) ने अपने अधिकारिक बयान में कहा है, श्रमिक संघ वर्डी (labour union Verdi) द्वारा 9.5 प्रतिशत वेतन वृद्धि की तलाश में हड़ताल की समाप्ति होगी. इससे पहले जून में, लुफ्थांसा ने हवाई अड्डों पर कर्मचारियों की कमी के साथ-साथ औद्योगिक कार्रवाई और चल रहे कोरोना वायरस महामारी का हवाला देते हुए फ्रैंकफर्ट और म्यूनिख से अतिरिक्त 2,000 ग्रीष्मकालीन उड़ानें (summer flights) रद्द कर दी थीं.

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, पिछले महीने लुफ्थांसा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कार्स्टन स्पोहर ने यात्रा में हो रही परेशानी के लिए अपने कर्मचारियों और ग्राहकों से माफी मांगी थी. स्पोर ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों को लिखे एक पत्र में कहा, “पिछले दो वर्षों में हमने अपनी कंपनी और 100,000 से अधिक नौकरियों को बचाते हुए निश्चित रूप से गलतियां की हैं.”

नए कर्मचारियों की हो रही भर्ती

जानकारी के लिए बता दें की, कंपनी यूरोप में हजारों कर्मचारियों सहित नए कर्मचारियों की भर्ती कर रही है. दुनिया भर की एयरलाइंस ने महामारी के दौरान नौकरियों और अन्य लागतों में कमी की थी. जिसने अधिकांश उड़ानें रोक दीं, और मांग के वापस आने पर खुद को एक संकट में पाया. बता दें की, ट्रेड यूनियन ने अपने एक बयान में कहा है कि एयरलाइन के पास स्टाफ की कमी है.

इसके साथ ही ट्रेड यूनियन का कहना है की, महंगाई लगातार बढ़ रही है, लेकिन कर्मचारी तीन साल से एक ही सैलरी पर काम कर रहे हैं.  यूनियन का कहना है की, इन सभी मुसीबतों के चलते जितने भी कर्मचारी हैं वो दवाब में काम कर  रहीं हैं. एयरलाइन में ख़राब हालात सिर्फ यूरोप में नहीं हैं बल्कि कई जगह ऐसे हालात बने हुए हैं.

कोरोना महामारी की वजह से एयरलाइन्स को भरी नुकसान हुआ था. क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रिय सभी उड़ानों को पुरी तरह से बंद कर दिया गया था. जिसके साथ ही कर्मचारियों को पुरी तनख्वाह देने  का दवाब भी कंपनी पर बन रहा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.