Kabul blast: काबुल के शिक्षण संस्थान में हुआ बम धमाका, 19 लोगों की हुई मौत

Kabul blast: स्थाई मीडिया का कहना है की बम धमाका काबुल शहर (Kabul blast) के पश्चिम में दश्त-ए-बारची (Dasht-e-Barchi) इलाके में काज (Kaaj) शिक्षा केंद्र में हुआ है. केंद्र के अधिकारियों ने कहा है कि धमाके के वक़्त छात्र विश्वविद्यालय की परीक्षा में बैठे थे. बताया जा रहा है की उस इलाके में रहने वालों में से कई हजारा अल्पसंख्यक (Hazara minority) हैं. जिन्हें पिछले हमलों में निशाना बनाया जा चुका है.

अल्पसंख्यक को बनाया जा रहा निशाना

Dawn से मिली जानकारी के मुताबिक, काबुल के शिक्षण संस्थान वाले इलाके में कई हजारा अल्पसंख्यक (Hazara minority) रहते हैं. उन्ही को निशाना बना कर ब्लास्ट किया गया है. हालाँकि, किसी भी समूह ने अभी तक यह नहीं कहा है कि वे विस्फोट के पीछे हैं. लेकिन शिया हज़ारों को लंबे समय से तालिबान के साथ-साथ उसके साथी इस्लामिक स्टेट समूह (IS) दोनों से उत्पीड़न का सामना करना पड़ा है.

पुलिस प्रवक्ता खालिद जादरान ने कहा की, “छात्र परीक्षा की तैयारी कर रहे थे. तभी इस शैक्षणिक केंद्र पर एक आत्मघाती हमलावर ने हमला कर दिया. दुर्भाग्य से 40 लोग मारे गए हैं और 27 अन्य घायल हो गए.”

शुक्रवार को तालिबान के गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि सुरक्षा दल घटनास्थल पर मौजूद हैं और हमले की निंदा की है. अब्दुल नफी ताकोर ने कहा कि नागरिक ठिकानों पर हमला करना ये दुश्मन की क्रूरता को दर्शाता है. दश्त-ए-बारची क्षेत्र में काफ़ी समय से हमले हो रहे हैं. जिनमें से कुछ ने स्कूलों और अस्पतालों को निशाना बनाया जा रहा है.

Kabul में लड़कियों के स्कूल पर भी हुए हैं Blast

बता दें की, इस साल अप्रैल में इलाके के अलग-अलग शिक्षा केंद्रों में हुए दो घातक बम विस्फोटों में छह लोगों की मौत हो गई थी. और 20 लोग घायल हो गए थे. पिछले साल तालिबान के सत्ता में लौटने से पहले दश्त-ए-बारची (Dasht-e-Barchi) में एक लड़कियों के स्कूल पर बम हमले में लगभग 85 लोग मारे गए थे. जिनमें मुख्य रूप से छात्र थे. इसके साथ ही बता दें की, सैकड़ों लोग घायल भी हुए थे.

अफ़ग़ानिस्तान में शिक्षा भी एक गंभीर मुद्दा बन गया है. स्थाई मीडिया का कहना है की, तालिबान ने लड़कियों की शिक्षा पर रोक लगाई है. आईएसआईएल (ISIL) भी महिलाओं और लड़कियों की शिक्षा के खिलाफ है.

एक ट्विटर पोस्ट में, एनजीओ (NGO) अफगान पीस वॉच ने कहा कि “एक आत्मघाती हमलावर ने छात्रों के बीच खुद को विस्फोट से उड़ा लिया. काज एजुकेशनल सेंटर को निशाना बनाया. बता दें कि हाल ही में काबुल के वजीर अकबर खान इलाके के पास भी एक बम धमाका हुआ था.”

Afghan Peace watch का अधिकारिक ट्वीट…

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल (Kabul blast) में रूसी दूतावास (Russian Embassy) के बाहर सोमवार को हुए एक आत्मघाती हमले में दूतावास के दो कर्मचारियों और अफगानिस्तान (Afganistan) में एक विदेशी राजनयिक मिशन पर हमले में कम से कम एक अफगान नागरिक की मौत हो गई थी.

अफगानिस्तान में आए दिन अब ऐसे बम धमाके हो रहे हैं. हमलों में लगातार तालिबान (Taliban) की स्थिति या अल्पसंख्यक समूहों, विशेष रूप से शियाओं की मस्जिदों को निशाना बनाया है.

Leave a Reply