Job Scam: दक्षिण पूर्व एशिया में 100 से ज्यादा भारतीयों को दिया गया नौकरी का झांसा

Job Scam: भारत सरकार का कहना है कि उसने लगभग 130 भारतीयों को बचाया है जिन्हें म्यांमार, लाओस और कंबोडिया में काम(Job scam) करने के लिए मजबूर किया गया था. बताया जा रहा है की, भारतीयों को एजेंटों द्वारा लालच दिया गया था. जिन्होंने सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र में अच्छी तरह से भुगतान करने वाले नौकरी के अवसरों की पेशकश की थी. जो नकली साबित हुए थे.

भारतीयों के साथ विदेश में हुआ स्कैम

Aljazeera में छापी खबर के मुताबिक, 130 भारतीयों के साथ जॉब स्कैम (Job scam) हुआ है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने शुक्रवार को कहा कि बचाए गए भारतीय कामगारों को बंदी बना लिया गया है और डिजिटल स्कैमिंग और जाली क्रिप्टोकरेंसी में लगी कंपनियों के लिए साइबर धोखाधड़ी करने के लिए मजबूर किया गया है.

उन्होंने आगे कहा कि कंपनियां दुबई, बैंकॉक और कुछ भारतीय शहरों में एजेंटों के माध्यम से काम कर रही थीं और थाईलैंड में नकली ज्यादा आकर्षक नौकरियों के लिए सोशल मीडिया विज्ञापनों के माध्यम से भारतीय श्रमिकों की भर्ती कर रही थीं.

बागची ने कहा कि कई श्रमिकों को सीमा पार से म्यांमार के एक क्षेत्र में अवैध रूप से ले जाया गया था. और भारतीयों के साथ धोकाधडी की गई. उन्होंने कहा कि लगभग 50 श्रमिकों को म्यांमार से भारत वापस लाया गया है. जबकि कुछ अन्य अभी भी म्यांमार में पुलिस हिरासत में हैं. क्योंकि वे बिना वीजा के देश में प्रवेश कर गए थे.

कंबोडिया से इतने भारतीयों को बचाया गया

विदेश मंत्री ने कहा की, 80 अन्य भारतीय कामगारों को कंबोडिया और लाओस से बचाया गया है. पिछले महीने, भारत के दक्षिणी तमिलनाडु राज्य के शीर्ष निर्वाचित अधिकारी एमके स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र में कहा था कि राज्य के लगभग 50 तमिलों सहित 300 भारतीयों को म्यांमार में बंदी बनाया गया है.

मीडिया ने बताया की पुलिस की जांच में पाया गया कि चीनी, थाई, वियतनामी, इंडोनेशियाई, मलेशियाई, म्यांमार के लोग, और आगे के अन्य लोगों को कंबोडिया में साइबर-घोटाले के संचालन में फंसाया गया है.

ना सिर्फ भारतीयों बल्कि कंबोडिया और लाओस में मानव तस्करों से छुड़ाए गए 21 मलेशियाई लोगों को गुरुवार को स्वदेश लौटा दिया गया. मलेशिया के विदेश मंत्री सैफुद्दीन अब्दुल्ला ने कहा कि सरकार ने अब कंबोडिया, लाओस, म्यांमार और थाईलैंड में लापता 401 में से 273 लोगों को बचा लिया है.

संयुक्त राष्ट्र ने कही ये बातें

संयुक्त राष्ट्र के एक प्रवक्ता ने कहा है की, “साइबर-घोटाले नेटवर्क, जो अक्सर अंतरराष्ट्रीय संगठित अपराध से जुड़े होते हैं. ऐसे संगठन को अक्सर कमजोर कानून प्रवर्तन वाले देशों में स्थापित किया जाता है. जो उच्च आय के वादे के साथ शिक्षित युवा श्रमिकों को आकर्षित करते हैं.” बताया जा रहा है की जिन लोगों को बंधक बनाया गया है उनके परिवारों ने विडियो संदेश के जरिए सरकार से मदद की गुहार लगाई थी.

श्रमिको को तबतक झांसा दिया जाता है जब तक वो संगठन श्रमिकों से पैसा निकलवाने में कामयाब नहीं हो जाते. जानकारों की माने तो अभी और भारतीय भी फंसे हो सकते हैं. सरकार बराबर बचाव में जुडी है. और लगातार जनता से आग्रह कर रही है की किसी भी धोका देने वाले संगठनो से सावधान रहे ताकि उनका पैसा और वो दोनों ही सुरक्षित कर सके.

 

One thought on “Job Scam: दक्षिण पूर्व एशिया में 100 से ज्यादा भारतीयों को दिया गया नौकरी का झांसा”

Leave a Reply