Israel ने सीरिया पर किया अटैक, Damascus हवाईअड्डा को किया गया बंद

Israel: अरब न्यूज़ से मिली जानकारी के मुताबिक, सीरिया की सेना का कहना है कि इज़राइली (Israel) मिसाइलों ने कम से कम दो सीरियाई सैनिकों को मार डाला है. और देश के मुख्य अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को बंद कर दिया है.

सेना ने आधिकारिक रूप से जारी एक बयान में कहा कि हवा से छोड़ी जाने वाली मिसाइलों की बौछार इजरायल (Israel) में तिबरियास झील की ओर से स्थानीय समयानुसार सोमवार को लगभग 2 बजे हुई थी. और दमिश्क अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे और इसके आसपास के इलाकों को निशाना बनाया गया था.

Israel ने किया सीरिया पर हमला

अरब न्यूज़ से मिली जानकारी के मुताबिक, इस्राइली (Israel) सेना ने सोमवार को सीरिया पर मिसाइल हमला बोल दिया है. दमिश्क इंटरनेशनल एयरपोर्ट को निशाना बनाकर किए गए मिसाइल हमले में दो सीरियाई सैनिकों की मौत हो गई है.

यूनाइटेड किंगडम स्थित निगरानी समूह सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने बताया कि इजरायली (Israel) मिसाइलों ने हवाई अड्डे के साथ-साथ दमिश्क के दक्षिण में एक हथियार डिपो को भी निशाना बनाया है.

Israel ने सीरिया पर किया अटैक, Damascus हवाईअड्डा को किया गया बंद
Israel ने सीरिया पर किया अटैक, Damascus हवाईअड्डा को किया गया बंद

यूनाइटेड किंगडम स्थित निगरानी समूह सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि हमले में कम से कम चार लोग मारे गए हैं. हालाँकि अभी इस हमले को लेकर इज़राइल (Israel) की ओर से तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की गई है.

दमिश्क अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को दूसरी बार किया गया है बंद

कहा जा रहा है की, इस घटना ने दूसरी बार दमिश्क अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को एक वर्ष से भी कम समय में बंद करवाया है. मिली जानकारी के मुताबिक, 10 जून को, इजरायल (Israel) के हवाई हमलों ने हवाईअड्डे पर हमला किया था. जिससे बुनियादी ढांचे और रनवे को काफी नुकसान हुआ था.

मरम्मत के दो सप्ताह बाद इसे फिर से खोल दिया गया था. इज़राइल (Israel) ने अन्य सीरियाई हवाईअड्डों पर भी हमला किया है. जिसमें सीरिया के सबसे बड़े और एक बार वाणिज्यिक केंद्र अलेप्पो शहर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सितंबर में मिसाइल दागना भी शामिल है.

इन बातों पर कभी नहीं हुई है चर्चा

इज़राइल ने हाल के वर्षों में सीरिया के सरकार-नियंत्रित हिस्सों के अंदर सैकड़ों मिसाइलें दागी हैं. लेकिन शायद ही कभी इस तरह के ऑपरेशनों को स्वीकार किया गया या उन पर चर्चा हुई है. हालाँकि, इज़राइल ने कहा है कि वह लेबनान के हिजबुल्लाह जैसे ईरान-संबद्ध सशस्त्र समूहों के ठिकानों को निशाना बनाता है.

जिसने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद की सेना का समर्थन करने के लिए हजारों लड़ाकों को भेजा है. हार्वर्ड केनेडी स्कूल के मिडिल ईस्ट इनिशिएटिव के एक वरिष्ठ फेलो रामी खौरी ने कहा कि नवीनतम इजरायली हमला ईरानियों, सीरियाई और रूसियों को संकेत देने के लिए बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व वाली नई सरकार द्वारा हो सकता है. बता दें की, नवंबर का चुनाव जीतने वाले नेतन्याहू ने 29 दिसंबर को अपने छठे कार्यकाल के लिए इज़राइल के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी.

हार्वर्ड केनेडी स्कूल के मिडिल ईस्ट इनिशिएटिव के एक वरिष्ठ फेलो रामी खौरी ने आगे कहा कि, यहां पर याद रखने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि संयुक्त राज्य सरकार ने कांग्रेस के माध्यम से वर्षों पहले यह गारंटी देते हुए कानून पारित किया था कि इजरायल अपने आसपास के दुश्मनों या दुश्मनों के किसी भी संयोजन से सैन्य रूप से श्रेष्ठ होगा. इसलिए इस्राइल को इस क्षेत्र में कहीं भी हमले करने की छूट है और कोई भी उन्हें रोकने में सक्षम नहीं है.”

Leave a Reply