समुद्री सीमा विवाद के चलते Israel और लेबनान के बीच हुआ ऐतिहासिक समझौता

Israel: इज़राइल (Israel) के प्रधानमंत्री येर लापिद (Yair Lapid) ने मंगलवार को कहा कि उनके देश ने पड़ोसी लेबनान के साथ साझा समुद्री सीमा को लेकर एक ‘‘ऐतिहासिक समझौते’’ के करीब पहुंच गए है. इस समझौते के वक़्त अमेरिका भी मौजूद था.

प्रधानमंत्री येर लापिद (Yair Lapid) के कार्यालय से एक बयान में कहा गया, “इजरायल (Israel) और लेबनान समुद्री विवाद को सुलझाने के लिए एक ऐतिहासिक समझौते पर पहुंच गए हैं.” येर लापिद (Yair Lapid) ने कहा की यह ऐतिहासिक उपलब्धि है जो इज़राइल की सुरक्षा को मजबूत करेगी.

Israel और लेबनान के बीच 1948 से चल रहा सीमा विवाद

जानकारी के मुताबिक, इज़राइल के 1948 में अस्तित्व में आने के बाद से ही लेबनान और इज़राइल (Israel) के बीच समुद्री सीमा को लेकर विवाद है. दोनों देश भूमध्य सागर के लगभग 860 वर्ग किलोमीटर (330 वर्ग मील) क्षेत्र पर दावा करते हैं.

समुद्री सीमा विवाद के चलते Israel और लेबनान के बीच हुआ ऐतिहासिक समझौता
समुद्री सीमा विवाद के चलते Israel और लेबनान के बीच हुआ ऐतिहासिक समझौता

पड़ोसी देशों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने पर बातचीत 2020 में शुरू होने के बाद से कई बाधाओं का सामना करना पड़ा है. अमेरिका ने इसके लिए हुई वार्ता में मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी. प्रधानमंत्री लापिद ने समझौते को एक ‘ऐतिहासिक उपलब्धि’ बताया. उन्होंने कहा कि यह समझौता ‘इजराइल की सुरक्षा को मजबूत करेगा.

2020 में हुई वार्ता में भी अमेरिका ने वार्ता में मध्यस्थ की भूमिका में था. उस वक़्त की वार्ता में 2006 में इजरायल से महीनों लड़ाई लड़ने वाले हिजबुल्लाह ने कहा था कि यह वार्ता लंबे समय से दुश्मन लेबनान व इजरायल के बीच शांति स्थापित करने का संकेत नहीं है. हालाँकि, उसके बाद से विवाद थोडा बढ़ा था लेकिन फिलहाल अब यह सीमा विवाद थमता नज़र आ रहा है.

इस फैसले से दोनों के बीच आएगी स्थिरता

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने बताया था कि इस समझौते से दोनों देशों के बीच विचार विमर्श शुरू होगा और लेबनान व इजरायल के नागरिकों के लिए अधिक स्थिरता, सुरक्षा और समृद्धि हासिल का मौका होगा.

वार्ताकार (negotiator) साब ने इस एतिहासिक फैसले पर कहा है की, “लेबनान ने अपने पूर्ण अधिकार प्राप्त कर लिए हैं  और उसकी सभी टिप्पणियों को ध्यान में रखा गया है. अंतिम समझौता लेबनान की सभी आवश्यकताओं को ध्यान में रखता है और हम मानते हैं कि दूसरे पक्ष को भी ऐसा ही महसूस करना चाहिए.”

लेबनान की तरह से यह स्पष्ट किया गया है की, इस फैसले से इजराइल और लेबनान के संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. लेबनान का कहना है की हमारे बीच की यह तकरार जारी रहेगी. इजराइल इस गलत फ़हमी में न रहे की हम झुक रहे हैं.

इजरायल के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार इयाल हुलता, इन्होंने इजरायली वार्ता दल का नेतृत्व किया है. इयाल हुलता ने साब की टिप्पणी पर अपनी भी कुछ बातें रखी हैं. इजरायल के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार इयाल हुलता ने अपने अधिकारिक ब्यान में कहा है की,

“हमारी सभी मांगें पूरी की गईं, हमने जो बदलाव मांगे थे. उन्हें ठीक कर दिया गया. हमने इजरायल के सुरक्षा हितों की रक्षा की और एक ऐतिहासिक समझौते की ओर बढ़ रहे हैं.”

इस बीच, इजरायल के प्रधानमंत्री यायर लैपिड के कार्यालय ने अपने ब्यान में कहा की, यह  ऐतिहासिक उपलब्धि है जो इजरायल की सुरक्षा को मजबूत करेगी. हालाँकि, सौदे के लिए एक हस्ताक्षर तिथि अभी तक निर्धारित नहीं की गई है.

Leave a Reply