भारतीय हॉकी टीम ने एशिया कप का ब्रॉन्ज मेडल (Bronze medal) जीत लिया है। बुधवार को तीसरे स्थान के लिए खेले गए मुकाबले में भारत ने जापान को 1-0 से हराया। मैच का इकलौता गोल राजकुमार पाल ने किया।

मंगलवार को साउथ कोरिया के खिलाफ 4-4 से ड्रा खेलना पड़ा था। इस मुकाबले के बाद उसके फाइनल की उम्मीद खत्म हुई और टीम कांस्य पदक के लिए जापान के खिलाफ खेलने उतरी। कड़ी टक्कर में भारतीय टीम ने जापान के खिलाफ जीत दर्ज कर यह पदक अपने नाम किया।

इस साल टूर्नामेंट में भारत ने नए प्रयोग किए और कई सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिया। टीम की कमान बीरेंद्र लाकड़ा के हाथ में थी। इस टूर्नामेंट के लिए नियमित कप्तान मनप्रीत सिंह को भी आराम दिया गया था।

एक ही पूल में थे भारत और जापान

भारत और जापान एक ही पूल में रखे गए थे। दोनों टीमों के बीच हुए लीग मैच में टीम इंडिया को 2-5 से हार मिली थी। राउंड दो में भारतीय टीम ने हार का बदला चुकता किया और जापान के खिलाफ 2-1 की जीत दर्ज की थी। दोनों टीमों के बीच प्रतियोगिता में यह तीसरी टक्कर थी जहां भारत ने 1-0 जीत हासिल कर कांस्य पदक अपने नाम कर लिया।

जापान के खिलाफ पिछली जीत से उत्साहित भारत ने शुरुआत से ही आक्रामक खेल दिखाया। नतीजा टीम को पहले क्वार्टर के छठे मिनट में ही गोल के रूप में मिला। राजकुमार ने जापान के खिलाफ पहला गोल दाग भारत को बढ़त दिलाई। इस क्वार्टर में इसके बाद कोई गोल नहीं हुआ और टीम इंडिया ने बढ़त से साथ इस क्वार्टर को खत्म किया।

दूसरे क्वार्टर में भारतीय टीम के मनजीत कुछ ज्यादा ही आक्रामक खेल दिखाते हुए रेफरी की नजर में आ गए और नतीजा ग्रीन कार्ड मिल गया। जापान ने इस क्वार्टर में कोई गोल नहीं खाया और ना ही वह कर पाई। भारत के पास 1-0 की बढ़त बरकरार रही। तीसरे क्वार्टर का खेल भी बिना गोल के खत्म हुआ और जापान की टीम 0-1 के पिछड़ते हुए ही मैच में आगे उतरी। चौथे क्वार्टर का भी नतीजा पहले तीन के जैसा ही रहा और भारतीय टीम ने जापान को 1-0 से मात देते हुए कांस्य पदक को अपने नाम कर लिया।

पिछली बार की चैंपियन थी इंडिया

टीम इंडिया 2017 में खेले गए एशिया कप में विजेता रही थी। तब उसने मलेशिया को 2-1 से हराते हुए खिताब जीता था। उससे पहले भारत ने 2013, 2007, 2003, 1994, 1989, 1985 और 1982 के सीजन में टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी। इनमें से भारतीय टीम ने 2003 , 2007 और 2017 में खिताब जीता था ।

 

By Satyam

Leave a Reply