India-UAE के बीच इस साल 88 अरब डॉलर के पार होगा द्विपक्षीय व्यापार

India-UAE: 22 नवंबर को समाचार एजेंसी ANI की रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2022-23 में भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच व्यापार 88 बिलियन डॉलर से अधिक होने की संभावना है.

संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बाद, संयुक्त अरब अमीरात भारत (India-UAE) का तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है. अधिकारिक रिपोर्ट्स के अनुसार, द्विपक्षीय व्यापार वित्त वर्ष 2021-22 के $73 बिलियन के आंकड़े को पार कर चालू वित्त वर्ष में $88 बिलियन का द्विपक्षीय व्यापार होने की संभावना जताई जा रही है.

India-UAE के बीच बढ़ रहा व्यापर

रायटर्स से मिली जानकारी के मुताबिक, संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर भारत आए हुए हैं. अपनी आधिकारिक यात्रा के दौरान यूएई (India-UAE) के विदेश मंत्री ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से भी मुलाकात की है.

भारत और यूएई (India-UAE) के बीच संबंधों में 2014 से गहरे परिवर्तन देखे गए हैं. भारत और यूएई (India-UAE) ने इस वर्ष 88 बिलियन अमरीकी डालर के द्विपक्षीय व्यापार को पार करने का अनुमान लगाया है. संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बाद, संयुक्त अरब अमीरात भारत (India-UAE) का तीसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार बन गया है.

India-UAE के बीच इस साल 88 अरब डॉलर के पार होगा द्विपक्षीय व्यापार
India-UAE के बीच इस साल 88 अरब डॉलर के पार होगा द्विपक्षीय व्यापार

बीते पांच महीनों के दौरान 36.82 अरब अमेरिकी डॉलर का व्यापर हुआ है

चालू वित्त वर्ष (CYF) के अप्रैल और अगस्त के बीच पांच महीनों के दौरान द्विपक्षीय व्यापार 36.82 अरब अमेरिकी डॉलर रहा है. पिछले वित्त वर्ष के 73 बिलियन अमेरिकी डॉलर की तुलना में सीएफवाई (CYF) के लिए 88 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक होने का अनुमान है.

पिछले 8 साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चार बार यूएई का दौरा किया है. यहां तक ​​कि पिछले तीन महीनों में चार बार विदेश मंत्री भी मिल चुके हैं. यूएई ने इस साल फरवरी में भारत के साथ अपने पहले व्यापक आर्थिक साझेदारी समझौते (Comprehensive Economic Partnership Agreement-CEPA) पर हस्ताक्षर किए थे. यह पिछले दस वर्षों में भारत के साथ पहली बार किया गया समझौता था. यह मई 2022 से लागू हुआ है.

इस साल निर्यात में 27 प्रतिशत की वृद्धि हुई है

CFY के अप्रैल-अगस्त के लिए द्विपक्षीय व्यापार पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 38 प्रतिशत अधिक था. बता दें की इस साल निर्यात में 27 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. जबकि कच्चे तेल की ऊंची कीमतों के कारण आयात में 45 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. दोनों देश संयुक्त अरब अमीरात में 3.5 मिलियन-मजबूत भारतीय समुदाय के लिए भुगतान मंच के रूप में यूपीआई (UPI) का उपयोग करने पर भी चर्चा कर रहे हैं.

संयुक्त अरब अमीरात से 10 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का निवेश किया गया है. इनमें कुछ बड़े टिकट निवेश शामिल हैं. जैसे रिलायंस जियो (Jio) और रिलायंस रिटेल (जून 2020) में 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर, अडानी में 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर (नवीकरणीय ऊर्जा, अप्रैल 2022), टाटा मोटर्स में 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर (इलेक्ट्रिक वाहन, अक्टूबर 2021).

यह दोतरफा निवेश है. जिसमें रिलायंस ने संयुक्त अरब अमीरात (दिसंबर 2021) में पेट्रोकेमिकल जेवी में 2 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश किया है. मिली जानकारी के मुताबिक, अबू धाबी में हिंदू मंदिर के निर्माण के लिए सरकार ने 26 एकड़ जमीन दी है.

 

Leave a Reply