आज से शुरू होगा भारत का नया अध्याय, आज से भारत की G20 अध्यक्षता की हो रही शुरुवात

G20: भारत आज (1 दिसंबर) जी-20 की अध्यक्षता संभालेगा. पीएम मोदी ने कहा है की, “यह जी-20 (G20) की अध्यक्षता भारत के लिए एक बड़ा अवसर है. हमें इस अवसर का पूरा उपयोग करना है और वैश्विक भलाई और विश्व कल्याण पर ध्यान देना है. शांति हो या एकता, पर्यावरण के प्रति संवेदनशीलता हो या सतत विकास, भारत के पास इनसे जुड़ी चुनौतियों का समाधान है.”

बता दने की, भारत ने जी-20 (G20) की अध्यक्षता ऐसे समय में ग्रहण की है जब दुनिया तेजी से बढ़ते जलवायु संकट, खाद्य और ऊर्जा संकट से लेकर यूक्रेन-रूस युद्ध और अन्य भू-राजनीतिक समस्याओं जैसी कई चुनौतियों का सामना कर रही है.

G20 की अध्यक्षता आज से होगी शुरू

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, आर्थिक मंदी और जलवायु संकट जैसी वैश्विक चुनौतियों से निपटने में आतंकवाद और एकता पर ध्यान देने के साथ भारत आज एक साल के लिए G20 की अध्यक्षता संभालेगा.

भारत अपनी वार्षिक अध्यक्षता के दौरान देश भर में 200 बैठकों की मेजबानी करेगा. पहली बैठक इस सप्ताह के अंत में उदयपुर में होगी. अगले साल का जी20 शिखर सम्मेलन 9 और 10 सितंबर को नई दिल्ली में होगा.

सरकार आपदा और जलवायु-लचीले बुनियादी ढाँचे और ऋण राहत के निर्माण पर भी आम सहमति बनाना चाहती है. आज से, यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों सहित देश भर के 100 स्मारकों को एक सप्ताह के लिए G20 लोगो पर प्रकाश डाला जाएगा.

आज से शुरू होगा भारत का नया अध्याय, आज से भारत की G20 अध्यक्षता की हो रही शुरुवात
आज से शुरू होगा भारत का नया अध्याय, आज से भारत की G20 अध्यक्षता की हो रही शुरुवात

PM मोदी ने थीम का किया था अनावरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने भारत की जी20 अध्यक्षता के लिए लोगो और थीम का अनावरण किया था. लोगो में एक कमल का फूल और एक ग्लोब दर्शाया गया है. जबकि भारत के G20 प्रेसीडेंसी का विषय है. “एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य” जो ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ (विश्व एक परिवार है) के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाता है.

15 और 16 नवंबर को इंडोनेशिया द्वारा आयोजित बाली में पिछले G20 शिखर सम्मेलन के समापन समारोह में भारत को प्रभावशाली ब्लॉक की अध्यक्षता सौंपी गई थी. शिखर सम्मेलन के समापन समारोह में अपने संबोधन के दौरान, पीएम मोदी ने कहा था कि, “भारत की जी -20 अध्यक्षता समावेशी, महत्वाकांक्षी, निर्णायक और कार्रवाई उन्मुख होगी. उन्होंने कहा कि भारत यह सुनिश्चित करेगा कि जी-20 अगले एक साल में नए विचारों की कल्पना करने और सामूहिक कार्रवाई में तेजी लाने के लिए वैश्विक प्रमुख प्रेरक के रूप में काम करेगा.”

ये देश शामिल होंगे G20 की बैठक में

मिली जानकारी के मुताबिक, G20 या 20 का समूह दुनिया की प्रमुख विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं का एक अंतर-सरकारी मंच है. इस बैठक के समूह में अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय शामिल हैं.

बता दें की, वैश्विक गरीबी और जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए डिजिटल तकनीकों और समाधानों का भी उपयोग किया जा सकता है. भारत को विभिन्न G-20 बैठकों के दौरान डिजिटल सार्वजनिक बुनियादी ढाँचे और स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के अपने अनूठे मॉडल का प्रदर्शन भी करेगा. सदस्य देश वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 85 प्रतिशत, वैश्विक व्यापार के 75 प्रतिशत से अधिक और विश्व जनसंख्या के लगभग दो-तिहाई का प्रतिनिधित्व करते हैं.

Leave a Reply