पाकिस्तान के पूर्व पीएम Imran Khan ने आतंकी घटनाओं को लेकर मौजूदा पीएम को घेरा और की आलोचना

Imran Khan: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने राष्ट्र को आतंकवादी घटनाओं की ओर धकेलने के लिए पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट के नेतृत्व वाली सरकार की आलोचना की है. उन्होंने (Imran Khan) पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-कायद के नेता मूनिस इलाही की मौजूदगी में हुई एक सलाहकार बैठक के दौरान यह टिप्पणी की है.

द न्यूज इंटरनेशनल ने इमरान खान (Imran Khan) के हवाले से कहा है की, “थोपे गए, भ्रष्ट और अक्षम शासक देश को आतंकी घटनाओं की ओर धकेल रहे हैं.” इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के सह-अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी और विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी की आलोचना भी की है.

पूर्व पीएम Imran Khan ने मौजूदा सरकार को लगाई लताड़

द न्यूज इंटरनेशनल से मिली जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान (Imran Khan) ने मौजूदा सरकार को आतंकवाद के मामले पर घेरा है. आतंकवाद के संबंध में पूर्व पीएम इमरान खान का बयान ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तान विशेष रूप से खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में आतंकी हमलों में बढ़त देख रहा है.

द न्यूज इंटरनेशनल ने इमरान खान (Imran Khan) के हवाले से कहा, “जरदारी के राजनीतिक रूप से अपरिपक्व बेटे की दया पर राष्ट्रीय सुरक्षा छोड़ना आपराधिक मूर्खता है.” द न्यूज इंटरनेशनल की रिपोर्ट के अनुसार, आगे इमरान खान (Imran Khan) ने कहा की, “खैबर पख्तूनख्वा बन्नू के काउंटर-टेररिज्म डिपार्टमेंट (Counter-Terrorism Department- CTD) में बंधक स्थितियों का गवाह रहा है. इसके अलावा, बलूचिस्तान में सीमा पार से हमले और बम विस्फोट देखे गए हैं.”

सार्वजनिक जनादेश वाली सरकार ही पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को संभाल सकती है- इमरान खान

द न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार, मौजूदा सरकार की आलोचना करते हुए, पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान (Imran Khan) ने उन्हें राष्ट्रीय सुलह अध्यादेश (NRS) से लाभ उठाना बंद करने के लिए कहा और मध्यावधि चुनाव कराने का आह्वान किया.

पाकिस्तान के पूर्व पीएम Imran Khan ने आतंकी घटनाओं को लेकर मौजूदा पीएम को घेरा और की आलोचना
पाकिस्तान के पूर्व पीएम Imran Khan ने आतंकी घटनाओं को लेकर मौजूदा पीएम को घेरा और की आलोचना

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि केवल सार्वजनिक जनादेश वाली सरकार ही पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को संभाल सकती है. आगे इमरान खान ने कहा, “केवल जनता के जनादेश वाली सरकार ही अर्थव्यवस्था का प्रबंधन करने में सक्षम होगी. मैंने विदेशी संकेतों पर थोपी गई साजिश के परिणामों के बारे में पहले ही आगाह कर दिया था. अर्थव्यवस्था की तबाही के बाद देश पूछ रहा है कि किसके इशारे पर आंतरिक अराजकता फैलाई जा रही है.”

बता दें की, बीते दिनों इमरान खान ने कहा था की, मुझे डर लग रहा है की पाकिस्तान डूब रहा है. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने शनिवार को चेतावनी दी कि उनका देश डूब रहा है. क्योंकि उन्होंने घोषणा की कि पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा प्रांतों में पीटीआई सरकारें जल्दी ही अपनी विधानसभाओं को भंग कर देंगी.

डूब रहा है पाकिस्तान

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के अध्यक्ष इमरान ने पंजाब के मुख्यमंत्री परवेज इलाही के साथ एक वीडियो संबोधन में कहा था की, “जब तक स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव नहीं होते, हम सभी डरते हैं कि देश डूब रहा है.”

खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री महमूद खान उनके साथ थे. इमरान खान ने भी स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव की अपनी मांग दोहराई और चेतावनी दी कि देश अन्यथा डूब सकता है. डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव ही पाकिस्तान की समस्याओं का एकमात्र समाधान है और कहा कि हार के डर से सरकार नए चुनावों से डर रही है.

Leave a Reply