दुनिया के सबसे बड़े खाद्य आयल उत्पादक देश इंडोनेशिया ने खाना पकाने के तेल निर्यात पर लगाया प्रतिबंध |

दुनिया के सबसे अधिक खपत वाले खाद्य तेल, पाम तेल के निर्यात पर इंडोनेशिया सरकार ने प्रतिबन्ध लगा दिया है | जिससे पहले से बना खाद्य तेल संकट और गहरा गया है | दुनिया भर में खाना पकाने के तेल की आपूर्ति की समस्या जल्द समाप्त होने वाली नहीं है।
इससे विकासशील देशों को सबसे बड़ा झटका लगने की उम्मीद है।

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो के अनुसार, दुनिया का सबसे बड़ा पाम तेल उत्पादक 28 अप्रैल से निर्यात पर प्रभावी रूप से प्रतिबंध लगाएगा। उनका कहना की खाना पकाने के तेल और इसके कच्चे माल के शिपमेंट को रोकने से घरेलू कीमतों में बढ़ोतरी पर काबू पाने में मदद मिलने की उम्मीद है।इंडोनेशिया का वैश्विक वनस्पति-तेल निर्यात में एक तिहाई (33%) से अधिक का योगदान है , इसके शीर्ष खरीदारों में चीन और भारत शामिल हैं।

यह प्रतिबंध दुनिया भर में फसल संरक्षणवाद के उपायों में आता है क्योंकि शुष्क मौसम ने दुनिया के सबसे बड़े उत्पादक दक्षिण अमेरिका में सोयाबीन की फसल के आकार को कम कर दिया है, जबकि कनाडा में सूखे ने कैनोला का उत्पादन कम कर दिया है, जिससे आपूर्ति बहुत कम हो गई है।

इसके अलावा, यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियान ने सूरजमुखी के तेल के व्यापार को हिला कर रख दिया है। यूक्रेन और रूस सूरजमुखी के दुनिया के दो सबसे बड़े उत्पादक हैं, जिनका सालाना उत्पादन लगभग 11 और 10.6 मिलियन टन है। काला सागर क्षेत्र (यूक्रेन – रूस का हिस्सा ) वैश्विक सूरजमुखी तेल निर्यात का 76% हिस्सा है , लेकिन इस क्षेत्र में युद्ध शुरू होने के बाद से वाणिज्यिक शिपिंग बुरी तरह प्रभावित हुई है ।

By Satyam

Leave a Reply

Your email address will not be published.