September 25, 2022
IMF: आईएमएफ ने चीन की विकास दर को घटाया, 1.1 प्रतिशत होने की भविष्यवाणी

IMF: आईएमएफ ने चीन की विकास दर को घटाया, 1.1 प्रतिशत होने की भविष्यवाणी

Spread the love

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) ने चीन के विकास दर को लेकर मंगलवार को भविष्यवाणी की है. IMF ने कहा कि उसने चीन (China) की आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 2022 में 1.1 फीसदी और अगले साल 1.3 फीसदी घटा दिया है.

IMF ने अपनी रिपोर्ट साझा करते हुए कहा है की, चीन में लॉकडाउन और गहराते अचल संपत्ति संकट के चलते उसका विकास दर 1.1 प्रतिशत होने का अनुमान है.

चीन के लिए कैसा रहेगा साल

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने 2022 में चीन की विकास दर को 1.1 प्रतिशत बताया है. चीन में काफ़ी समय से कोरोना महामारी की वजह से लॉकडाउन लगा हुआ है.

हालाँकि, की वहाँ की जनता ने भी चीन का विरोध किया लेकिन चीन कोई भी रियायत नहीं बरती. बता दें की, यह पूर्वानुमान तब आया है जब आईएमएफ (IMF) की रिपोर्ट ने भविष्यवाणी की है कि इस साल वैश्विक विकास दर घटकर 3.2 प्रतिशत और 2023 में 2.9 प्रतिशत हो जाएगी.

IMF की रिपोर्ट में कहा गया है, “आधारित पूर्वानुमान पिछले साल के 6.1 प्रतिशत से 2022 में 3.2 प्रतिशत तक धीमा रहने का है. जो अप्रैल 2022 के विश्व आर्थिक आउटलुक की तुलना में 0.4 प्रतिशत कम है.” ऐसा बताया जा रहा है, 2023 में आईएमएफ वैश्विक विकास दर 2.9 प्रतिशत होने वाला है. जो 0.7 प्रतिशत अंक कम होने का अनुमान लगाता है. बता दें की, आईएमएफ ने वैश्विक मुद्रास्फीति के लिए अपने पूर्वानुमान को संशोधित दिया है.

इसके अलावा IMF का कहना है की,  दुनिया की उन्नत अर्थव्यवस्थाओं (global inflation) में 6.6 प्रतिशत और 2022 में उभरते बाजारों में 9.5 प्रतिशत विकास दर है. IMF ने आगे बताया है की, भोजन और ऊर्जा की कीमतों के साथ-साथ आपूर्ति-मांग असंतुलन के कारण वैश्विक मुद्रास्फीति को संशोधित किया गया है. और इस वर्ष उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में 6.6 प्रतिशत और उभरते बाजारों और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में 9.5 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान लगाया गया है.

वैश्विक उत्पादन में मामूली वृद्धि होने की उम्मीद

बता दें की, आईएमएफ ने रिपोर्ट में कहा कि उसे अगले साल मुद्रास्फीति की मौद्रिक नीति कम की उम्मीद है. वैश्विक उत्पादन में 2.9 प्रतिशत की मामूली वृद्धि होगी. रिपोर्ट में कहा गया है कि, 2023 में उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रास्फीति 3.3 प्रतिशत और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान है. IMF का कहना है की कोरोना ने पहले से ही देशो की अर्थव्यवस्था को बिगाड़ रखा है.

IMF ने इससे पहले भी अपनी रिपोर्ट साझा की थी जिसमें उसने विकासशील देशों की अर्थव्यस्था को 2022 में निराशजनक बताया था. कोरोना का असर अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार पर भी पड़ा है. कोरोना में सुपर पॉवर कहे जाने वाला देश अमेरिका की भी अर्थव्यवस्था को हिला कर रख दिया है. बता दें की, कोरोना के अलावा रूस-यूक्रेन युद्ध का असर भी अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार और देशों की अर्थव्यस्था पर पड़ा है.

जानकारी के लिए बता दें की, IMF ने आर्थिक मंदी के भी आसार बताए थे. जिसके बाद से देशों की चिंता और बढ़ गयी थी. कोरोना की ही वजह से कई देश अर्थव्यवस्था के मामले में धरा शाही हो गए. रूस-यूक्रेन युद्ध को चलते छे महीने पूरे होने जा रहें हैं. लेकिन अगर ये युद्ध जल्दि ही समाप्त नहीं हुआ तो इसकी वजह से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर और बुरा प्रभाव पड सकता है.

 

1 thought on “IMF: आईएमएफ ने चीन की विकास दर को घटाया, 1.1 प्रतिशत होने की भविष्यवाणी

Leave a Reply

Your email address will not be published.