पिछले साल रूस के विपक्षी ने अलेक्सी नवेलनी को मॉस्को एयरपोर्ट पर गिरफ्तार कर लिया गया | वो जर्मनी से अपना इलाज करवा कर वापस लौट रहे थे | नवेलनी पुतिन के धुर विरोधी और भ्र्रष्टाचार विरोधी कार्यकर्ता है | 20 अगस्त 2020 को एलेक्सी नवलनी को नोविचोक नर्व एजेंट नामक जहर दिया गया था जो बहुत ही खतरनाक जहर है और उसे दुनिया ने बैन किया हुआ है | जहर के बाद नवेलनी की हालत गंभीर थी जिसके बाद उन्हें जर्मनी में इलाज के लिए ले जाया गया था | अपना इलाज करवाकर ही नवेलनी मॉस्को लौट रहे थे जिसके बाद एक पुराने केस के मामले में उनकी गिरफ़्तारी हुयी थी | जिसके बाद उनके स्वागत के लिए एयरपोर्ट पर खड़े समर्थको ने विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था |

इन प्रदर्शनों में तब और तेजी आ गयी जब नवेलनी की टीम ने उनका पहले से रिकॉर्ड किया वीडियो यूट्यूब पर पोस्ट कर दिया जिसमे पुतिन की काली कमाई से बनावाये गए एक महल का जिक्र था जिसकी कीमत 10 हजार करोड़ से भी अधिक है | वीडियो के अनुसार, पुतिन का कथित गुप्त निवास दक्षिणी रूस में काला सागर के तटीय शहर गेलेंदज़िक के पास है, जो नो-फ्लाई ज़ोन के नीचे है।

महल की खासियत –

फुटेज प्राप्त करने के लिए नवेलनी के कर्मचारियों ने काले सागर में एक नाव पर सवार होकर महल के ऊपर उड़ता ड्रोन भेजा। नवलनी द्वारा बतायी गई फुटेज में न केवल एक भव्य हवेली दिखाई देती है, बल्कि दो हेलीपैड, एक भूमिगत हॉकी रिंक, एक चर्च, एक मूर्तिकला उद्यान, एक अधूरा एम्फीथिएटर, एक आर्बरेटम और ग्रीनहाउस, और एक 260-फुट का पुल है जो एक 27,000 वर्ग फुट के गेस्ट हाउस तक जाता है |

नवलनी के अनुसार मुख्य निवास में 11 बेडरूम, कई रहने और खाने के क्षेत्र, एक निजी थिएटर, एक लास वेगास शैली का कैसीनो, एक स्विमिंग पूल, सौना और एक हम्माम, एक कॉकटेल लाउंज, एक जिम और स्टाफ क्वार्टर हैं। एक भूमिगत कमरा भी समुद्र की ओर मुख वाली चट्टान के किनारे में बनाया गया है ।

आरोप के मायने –

ये पहली बार नहीं है जब पुतिन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे है , पुतिन पर अपने राजनीतिक जीवन के शुरुआत से ही ऐसे आरोप लगे है पर उनपर न कोई जांच पूरी हो पायी है और नाही कोई कार्यवाही | पुतिन ने अपनी मर्जी के हिसाब से अपना कार्यकाल बड़ा कर लिया और 2036 तक राष्ट्रपति रहने के मूड में है | रूस में पूरी तरह से लोकतंत्र कभी हो ही नहीं पाया सोवियत संघ के टूटने के बाद से रूस में लोकतंत्र आया मगर कभी फल नहीं पाया |

By Satyam

Leave a Reply