Kedarnath में यात्रियों को ले जा रहा हेलीकॉप्टर हुआ क्रैश, 7 लोगों की हुई मौत

Kedarnath: मंगलवार को गरुड़चट्टी के पास एक हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने से सात केदारनाथ (Kedarnath) तीर्थयात्रियों और एक पायलट सहित कम से कम सात लोगों की मौत हो गई. इस दुखद घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताया है. “उत्तराखंड में हेलीकॉप्टर दुर्घटना से दुखी. इस दुखद घड़ी में, मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं.” यह हेलीकॉप्टर आर्यन एविएशन का था और मंगलवार सुबह करीब 11:45 बजे क्रैश हो गया.

Kedarnath में हुआ बड़ा हादसा

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, उत्तराखंड के केदारनाथ (Kedarnath) में हेलीकॉप्टर क्रैश होने के खबर है. हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई है. जानकारी के मुताबिक यह हादसा केदारनाथ धाम से 2 किलोमीटर पहले गरुड़चट्टी में हुआ.

Kedarnath में यात्रियों को ले जा रहा हेलीकॉप्टर हुआ क्रैश, 7 लोगों की हुई मौत
Kedarnath में यात्रियों को ले जा रहा हेलीकॉप्टर हुआ क्रैश, 7 लोगों की हुई मौत

PTI की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल, उत्तराखंड और दिल्ली के आपदा प्रतिक्रिया बल और पुलिस की टीमें शवों को केदारनाथ हेलीपैड पर ले आईं हैं. न्यूज 18 से बात करते हुए उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने भी जानमाल के नुकसान पर संवेदना व्यक्त की है.

हेलिकॉप्टर दुर्घटना के कारण के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “दुर्घटना के सही कारण का पता बाद में ही चल पाएगा. हालांकि, मौसम एक कारक हो सकता है, क्योंकि क्षेत्र में कोहरा और बर्फबारी देखी जा रही थी जिससे दृश्यता कम हो सकती थी.”

घटनास्थल पर बड़े पैमाने पर धुएं का गुबार दिखाई दे रहा है

घटनास्थल से शुरुआती दृश्यों में दुर्घटना के बाद बड़े पैमाने पर धुएं का गुबार दिखाई दे रहा था. नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने दुर्घटना की विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं. घटना में मारे गए तीर्थयात्री झारखंड, कर्नाटक और गुजरात के थे. जबकि हेलिकॉप्टर उड़ाने वाले कैप्टन अनिल मुंबई के रहने वाले थे.

बचाव दल शवों को निकालने के लिए मौके पर पहुंचे हैं. हालांकि, बर्फबारी के साथ खराब मौसम की स्थिति ने ऑपरेशन में बराबर बाधा डाली है. उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने घटना पर ट्वीट किया और कहा कि स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर के कहा की,

“केदारनाथ (Kedarnath) में हेलीकॉप्टर दुर्घटना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है. हम नुकसान की भयावहता का पता लगाने के लिए राज्य सरकार के संपर्क में हैं और स्थिति की लगातार निगरानी कर रहे हैं.”

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने जताया शोक

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने ट्वीट कर के कहा है की, “केदारनाथ धाम के पास हेलीकॉप्टर दुर्घटना में पायलट सहित कई तीर्थयात्रियों की मौत की खबर बहुत दुखद है. अपने प्रियजनों को खोने वाले परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है.”

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का ट्वीट…

तीर्थयात्रियों को घाट से केदारनाथ मंदिर तक ले जाने के लिए मार्गों में नौ निजी हेलिकॉप्टर सेवाएं अभी चालू बताई गई हैं. गुप्तकाशी, फाटा और सिरसी रुद्रप्रयाग जिले के तीन क्षेत्र हैं जहां तीर्थयात्री केदारनाथ (Kedarnath) मंदिर तक पहुंचने के लिए हेलीकॉप्टर की सवारी करते हैं.

अभी हाल ही में, शनिवार की सुबह केदारनाथ मंदिर के पीछे पहाड़ों पर भारी हिमस्खलन हुआ था. जिससे तीर्थयात्रियों में डर पैदा हो गया है. क्योंकि उन्हें क्षेत्र में 2013 की बाढ़ की याद दिला दी गई थी. अधिकारियों ने कहा कि मंदिर को कोई चोट या नुकसान नहीं हुआ था.

बद्रीनाथ-केदारनाथ (Kedarnath) मंदिर समिति (बीकेटीसी) के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने कहा कि तीन से चार मिनट तक झील पर बर्फ के ढेर लटके देखे गए. सुबह लगभग 6.30 बजे, केदार डोम और स्वर्गारोहिणी के बीच एक ग्लेशियर टूट गया और मंदिर के पीछे स्थित चोराबाड़ी झील के पास गिर गया.

Leave a Reply