September 25, 2022
Grain Export: रूस, यूक्रेन ने यूक्रेनी काला सागर बंदरगाहों से अनाज निर्यात समझौते पर किए हस्ताक्षर

Grain Export: रूस, यूक्रेन ने यूक्रेनी काला सागर बंदरगाहों से अनाज निर्यात समझौते पर किए हस्ताक्षर

Spread the love

रूसी और यूक्रेनी अधिकारियों ने यूक्रेनी काला सागर (Black Sea ports) बंदरगाहों से अनाज निर्यात (Grain Exports) की अनुमति देने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. ये हस्ताक्षर इसलिए किया गया है क्योंकि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ( Antonio Guterres) और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन (Recep Tayyip Erdogan) ने कहा कि समझौते से वैश्विक खाद्य संकट को कम करने में मदद मिलेगी.

दोनों देश के बीच हुआ समझौता

Aljazeera से मिली जानकारी के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की मौजूदगी में रूसी और यूक्रेनी अधिकारियों ने यूक्रेनी काला सागर (Black Sea ports) बंदरगाहों से अनाज निर्यात (Grain Exports) पर शांति पूर्ण तरीके से हस्ताक्षर किए हैं. इस समझौते से वैश्विक खाद्य संकट को कम करने में मदद मिलेगी और अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में भी इसका असर देखने को मिलेगा.

बता दें की, युद्धरत देश दुनिया के सबसे बड़े खाद्य निर्यातकों में से हैं. लेकिन रूस के आक्रमण से काला सागर की वास्तविक नाकाबंदी हो गई थी. जिसके परिणामस्वरूप यूक्रेन का निर्यात उनके युद्ध-पूर्व स्तर के छठे हिस्से तक गिर गया और खाद्य संकट कहीं न कहीं अब तेज़ी से अपने पैर पसार रहा है. संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में साझा किया गया था की दिन पर दिन अफ्रीका के हालात बिगड़ते जा रहे हैं. खाने की इतनी ज्यादा कमी हो गयी है की लोग मिटटी तक खाने को मजबूर हैं.

दोनों देश के अधिकारीयों ने हाँथ मिलाने से किया परहेज़

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और यूक्रेन (Ukraine) के बुनियादी ढांचा मंत्री, ऑलेक्ज़ेंडर कुब्राकोव ने शुक्रवार को अलग-अलग समझौते पर हस्ताक्षर (Grain Exports) किए. दोनों ही अधिकारीयों ने हाँथ मिलाने से परहेज़ किया. ये हस्ताक्षर समारोह इस्तांबुल के भव्य डोलमाबाहस पैलेस में एर्दोगन और गुटेरेस की उपस्थिति में हुआ. गुटेरेस ने रूस और यूक्रेन से समझौते को पूरी तरह से लागू करने का आह्वान किया और कहा की,

“आज, काला सागर पर एक प्रकाशस्तंभ है. उम्मीद की एक किरण [और] संभावना और एक ऐसी दुनिया में राहत जिसे इसकी पहले से कहीं ज्यादा जरूरत है.” यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि शुक्रवार के सौदे का मतलब है कि पिछले साल की फसल के लगभग 20 मिलियन टन के साथ लगभग 10 बिलियन डॉलर का अनाज बिक्री के लिए उपलब्ध होगा. जिसे अब निर्यात किया जा सकता है.

120 दिनों के लिए वैध होगा ये समझौता

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, ये समझौता 120 दिनों के लिए वैध है और आगे की बातचीत के बिना स्वचालित रूप से नवीनीकृत किया जा सकता है. संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों के अनुसार, समझौते के तहत तुर्की, यूक्रेनी और संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारियों का एक गठबंधन काला सागर के माध्यम से एक पूर्व नियोजित मार्ग पर नेविगेट करने से पहले यूक्रेनी बंदरगाहों में जहाजों में अनाज के लोडिंग की निगरानी करेगा. जो कि यूक्रेनी और रूसी सेनाओं द्वारा भारी खनन किया जाता है.

ऐसा बताया जा रहा है की, यूक्रेनी पक्ष द्वारा प्रदान किए गए सुरक्षित चैनलों के मानचित्र का उपयोग करके समुद्र तट के आसपास के खनन क्षेत्रों को नेविगेट करने के लिए यूक्रेनी पायलट जहाज अनाज का परिवहन करने वाले वाणिज्यिक जहाजों का मार्गदर्शन करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.