September 29, 2022
Ghana: आईएमएफ से अपनी अर्थव्यवस्था के लिए मदद मांगेगा घाना

Ghana: आईएमएफ से अपनी अर्थव्यवस्था के लिए मदद मांगेगा घाना

Spread the love

Ghana: अपनी डूबती हुई अर्थव्यवस्था को बचाने की पूरी कोशिश कर रहा है घाना. पश्चिम अफ्रीका की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक घाना (Ghana) एक समर्थन पैकेज पर अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund)  के साथ औपचारिक बातचीत करेगा.

डूबती अर्थव्यवस्था के बाद भी मदद लेने से किया इनकार

बता दें की, अब तक घाना (Ghana)  महाद्वीप का दूसरा सबसे बड़ा सोना उत्पादक रहा है. घाना (Ghana) की अर्थव्यवस्था कोरोना महामारी (Covid-19) के दौरान बिगड़ गई थी. जो अब तक नहीं सुधरी है. लेकिन इन सबके बावजूद भी घाना ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) से मदद माँगने से साफ़ इनकार कर दिया था. जबकि विश्लेषकों ने ये चेतावनी भी दी थी.

लेकिन अब जब हालात बेकाबू होते जा रहें हैं तब घाना ने IMF से मदद मांगी है. हालाँकि, बता दें की आईएमएफ (International Monetary Fund) ने मदद के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया है. विश्लेषकों का कहना है कि इस फैसले से घाना को उसकी चुनौतियों से निपटने में मदद मिलेगी. और घाना ने ये एक सही फ़ैसला लिया है.

अर्थशास्त्री भी इस फैसले को मानते हैं सही

इसके अलावा, अकरा (Accra) में इंस्टीट्यूट फॉर फिस्कल स्टडीज (Institute for Fiscal Studies ) में अर्थशास्त्री और रिसर्च फेलो लेस्ली ड्वाइट मेन्सा (Leslie Dwight Mensah) ने कहा, “यह निर्णय लगभग बिलकुल सही है. बिगड़ती आर्थिक स्थिति और बिगड़ते बाहरी वातावरण के कारण भुगतान संतुलन के संकट के खतरे को देखते हुए सरकार ने ये देशहित में फ़ैसला लिया है.”

Aljazeera की ख़बर के मुताबिक, स्टैंडर्ड चार्टर्ड में अफ्रीका और मध्य पूर्व के मुख्य अर्थशास्त्री रजिया खान (Raziya Khan) ने ट्वीट किया, “सकारात्मक समाचार – बाहरी झटकों और घाना की अर्थव्यवस्था के लिए बढ़ती चुनौतियों को देखते हुए ये सही फ़ैसला लिया गया है.”

सेंट्रल बैंक के गवर्नर अर्नेस्ट एडिसन (Ernest Addison) ने मई में कहा था कि घाना को 2022 की पहली तिमाही में 934.5m डॉलर के भुगतान घाटे के समग्र संतुलन का सामना करना पड़ा. जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह 429.9m डॉलर था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.