Russia में तीसरी तिमाही में गिरावट के बाद 4% सिकुड़ी GDP, दिख रहे हैं मंदी के आसार

Russia: बुधवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, रूस-यूक्रेन के युद्ध के चलते रूस (Russia) को बहुत नुकसान हुआ है. साथ ही रूस पर दोहरी मार तब पड़ी है जब रूस (Russia) पश्चिमी प्रतिबंधों के कारण कई बाधाओं का सामना कर रहा है.

Russia पर पड़ रही है दोहरी मार

WION से मिली जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय रोसस्टैट के एक शुरुवाती अनुमान के अनुसार, तीसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में चार प्रतिशत की कमी आई है. जुलाई और सितंबर के बीच आर्थिक उत्पादन में कमी चार प्रतिशत थी. जानकारों ने अनुमान लगाया था की, भविष्यवाणी की गई थी की 4.5 प्रतिशत की गिरावट आएगी.

लेकिन फ़िलहाल तो 4 प्रतिशत की गिरावट आई है. कहा जा रहा है की, थोक व्यापार में 22.6 प्रतिशत की गिरावट और खुदरा व्यापार में 9.1 प्रतिशत की गिरावट आई है. अगर वृद्धि की बात करें तो कृषि में 6.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. पश्चिमी देशों ने रूस पर कई तरीके के प्रतिबन्ध लगाए हुए हैं. जिसमें निर्यात और आयात दोनों ही शामिल हैं.  विशेष रूप से आवश्यक औद्योगिक भागों और कलपुर्जे पर प्रतिबंध लगाए हैं.

Russia में तीसरी तिमाही में गिरावट के बाद 4% सिकुड़ी GDP, दिख रहे हैं मंदी के आसार
Russia में तीसरी तिमाही में गिरावट के बाद 4% सिकुड़ी GDP, दिख रहे हैं मंदी के आसार

रूस की अर्थव्यवस्था सिकुड़ रही है

एक आंशिक लामबंदी (mobilisation) ने लाख पुरुषों को काम छोड़ने पर मजबूर कर दिया है. रोसस्टैट की रिपोर्ट के मुताबिक अर्थव्यवस्था सिकुड़ रही है. और सितंबर में रूस में बेरोजगारी दर 3.9 प्रतिशत हो गया है. अधिकारिक रिपोर्ट्स की माने तो, रूसी अर्थव्यवस्था ऊर्जा निर्यात पर और भी अधिक निर्भर हो गई है. इसने देश की कुल आय का लगभग 40 प्रतिशत उत्पन्न किया है.

अगर रूस (Russia) और यूक्रेन के हमलों की बात की जाए तो हाल ही में रूस (Russia) और यूक्रेन का युद्ध अपने 9 वें महीने में आ गया है. रूस और यूक्रेन के का युद्ध फरवरी में इस साल शुरू हुआ था. अभी खबर आई है की, पोलैंड में मिसाइल दागी गई है. संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पोलैंड (Poland) में एक घातक मिसाइल हमले को लेकर रूस को ज़िम्मेदार ठहराया है.

नाटो और पोलैंड ने भी रूस पर शक जताया है

नाटो और पोलैंड ने भी कहा है कि मिसाइल शायद एक रूसी हमला भी हो सकता है. बताया जा रहा है की नाटो के एक सदस्य पोलैंड के अंदर दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे. जिसमें दो कृषि श्रमिकों की मौत हो गई थी. हालाँकि, इस पर रूस ने यूक्रेन पर भी आरोप लगाया है. रूस का कहना है यह हमला यूक्रेन द्वारा किया गया है. इस पर यूक्रेनी राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने जोर देकर कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि मिसाइल यूक्रेनी नहीं थी.

यूक्रेन के साथ पोलैंड की सीमा के पास के गाँव में मौतें उसी दिन हुईं, जब रूस ने यूक्रेन के शहरों में 90 से अधिक मिसाइलें दागीं थीं. जिसका लक्ष्य उसकी ऊर्जा ग्रिड और लाखों लोगों के लिए बिजली ब्लैकआउट था. कीव में सरकार ने कहा कि 24 फरवरी को मास्को द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण करने के बाद से यह सबसे तीव्र बैराज था.

Leave a Reply