G 20: पाकिस्तान हो रहा अपने मंसूबों में कामयाब, चीन ने जम्मू-कश्मीर में G20 बैठक का किया विरोध

G 20: पाकिस्तान हमेशा से ही G 20 बैठक का विरोध करता आया है. मीडिया रिपोर्ट्स में सामने आया था की पाकिस्तान अगले जम्मू-कश्मीर में होने वाली G 20 बैठक के खिलाफ चीन को अपने पक्ष में कर रहा है. चीन अपने करीबी सहयोगी पाकिस्तान के सुर में सुर मिलाते हुए कहा कि संबंधित पक्षों को मुद्दे को राजनीतिक रंग देने से बचना चाहिए.

चीन के सुर क्यों बदलें

रिपोर्ट्स के सामने आने के बाद कि भारत (India) चीन ने जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में G 20 बैठक आयोजित करने के भारत के फैसले पर हमला किया था. फिलहाल तो चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने इस फैसले को खारिज कर दिया है. करीबी सहयोगी पाकिस्तान की आपत्ति को दोहराते हुए लिजियन ने कहा, ”कश्मीर पर चीन (China) का रुख लगातार और स्पष्ट है.”

लिजियन ने कहा की, यह भारत और पाकिस्तान के बीच एक विरासत का मुद्दा है. इसे संयुक्त राष्ट्र (United states) के प्रासंगिक प्रस्तावों और द्विपक्षीय समझौतों के अनुसार ठीक से हल किया जाना चाहिए. यह उम्मीद करते हुए कि समूह के सदस्य कानून और न्याय की अनिवार्यताओं से पूरी तरह परिचित होंगे और प्रस्ताव का एकमुश्त विरोध करेंगे. पाकिस्तान ने कश्मीर में G20 देशों की बैठक आयोजित करने के भारत के प्रयास को भी खारिज कर दिया था.

बता दें की, केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन ने पिछले गुरुवार को समग्र समन्वय के लिए पांच सदस्यीय उच्च स्तरीय समिति की स्थापना के साथ, जम्मू और कश्मीर (Jammu & Kashmir) जी -20 (G 20) की 2023 बैठकों की मेजबानी करेगा, एक प्रभावशाली समूह जो दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाता है.

झाओ लिजियान (Zhao Lijian) ने कहा कि जी-20 अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग के लिए प्रमुख मंच है. उन्होंने कहा हम सभी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं का आह्वान करते हैं कि वैश्विक अर्थव्यवस्था के सतत रूप से उबरने पर ध्यान दें. इस प्रासंगिक मुद्दे को राजनीतिक रंग देने से बचें और वैश्विक आर्थिक शासन को सुधारने के लिए सकारात्मक योगदान दें.

Leave a Reply