UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता मिलने का फ्रांस और ब्रिटेन ने किया समर्थन

UNSC: वीटो सदस्यों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में स्थायी सीट के लिए भारत का समर्थन किया है. यूनाइटेड किंगडम के बाद, फ्रांस ने ब्राजील, जर्मनी, भारत और जापान के लिए नई स्थायी सीटों की स्थापना के लिए अपने समर्थन की पुष्टि की है.

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के उप प्रतिनिधि नथाली ब्रॉडहर्स्ट एस्टिवल ने शुक्रवार को सुरक्षा परिषद सुधार पर सुरक्षा परिषद की वार्षिक चर्चा के दौरान बात की और घोषणा की, “फ्रांस स्थायी सीटों के लिए स्थायी सदस्यों के रूप में जर्मनी, ब्राजील, भारत और जापान की उम्मीदवारी को स्वीकार करता है.”

UNSC में भारत को मिला समर्थन

टाइम्स नाउ से मिली जानकारी के मुताबिक, ब्रिटेन के बाद फ्रांस ने भी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में भारत (India) की स्थाई सदस्यता का समर्थन किया है. शुक्रवार को सुरक्षा परिषद सुधार पर यूएनएससी (UNSC) की वार्षिक बहस को संबोधित करते हुए, संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के उप प्रतिनिधि नथाली ब्रॉडहर्स्ट एस्टीवल ने कहा की, “फ्रांस स्थायी सीटों के लिए स्थायी सदस्यों के रूप में जर्मनी, ब्राजील, भारत और जापान की उम्मीदवारी का समर्थन करता है.”

आगे उन्होंने कहा की, “हम परिषद के स्थायी सदस्यों सहित अफ्रीकी देशों से भी अधिक प्रतिनिधित्व चाहते हैं. क्योंकि भौगोलिक प्रतिनिधित्व (geographical representation) सुनिश्चित करने के लिए कई सीटों का वितरण किया जाना चाहिए.”

UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता मिलने का फ्रांस और ब्रिटेन ने किया समर्थन
UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता मिलने का फ्रांस और ब्रिटेन ने किया समर्थन

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के उप प्रतिनिधि ने कहीं ये बातें

ब्रॉडहर्स्ट ने आगे कहा की, “हमें वास्तव में नई शक्तियों के उद्भव को ध्यान में रखना चाहिए जो सुरक्षा परिषद में एक स्थायी उपस्थिति की जिम्मेदारी लेने के इच्छुक और सक्षम हैं.” UNSC में, राजदूत एस्टीवल ने कहा कि वीटो का मुद्दा अत्यधिक संवेदनशील है. उन्होंने जोर देकर कहा कि इस मामले पर निर्णय लेने के लिए स्थायी सीट का अनुरोध करने वाले राज्यों पर निर्भर है.

फ्रांस ने सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता की गंभीरता को दोहराते हुए कहा कि वीटो का मुद्दा अत्याधिक संवेदनशील है. एस्टीवल ने यूएनएससी में जोर देकर कहा कि इस मामले पर फैसला लेने के लिए स्थायी सीट का अनुरोध करने वालों देशों पर निर्भर है.

भारत को शामिल करने का उद्देश्य दो गुना है

संयुक्त राष्ट्र में फ्रांस के उप प्रतिनिधि नथाली ब्रॉडहर्स्ट एस्टीवल ने कहा, “फ्रांस स्थायी सदस्यों के रूप में जर्मनी, ब्राजील, भारत और जापान की उम्मीदवारी का समर्थन कर रहा है. हम स्थायी सदस्यों सहित अफ्रीकी देशों की मजबूत उपस्थिति भी देखना चाहेंगे.”

आगे उन्होंने कहा की, “भारत को शामिल करने का उद्देश्य दो गुना है. एक ओर, सुरक्षा परिषद की वैधता को मजबूत करना है. दूसरी ओर, अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के रखरखाव में अपनी जिम्मेदारियों को पूरी तरह से निभाने की अपनी क्षमता को मजबूत करने के लिए भी भारत को हमेशा आगे आना होगा.”

बता दें की, इससे पहले ब्रिटेन ने भी UNSC की स्थायी सदस्यता के लिए भारत को अपना समर्थन दिया था. संयुक्त राष्ट्र में UK के राजदूत बारबरा वुडवर्ड ने कहा था की, “हम भारत, जर्मनी, जापान और ब्राजील के लिए नई स्थायी सीटों के निर्माण के साथ-साथ परिषद में स्थायी अफ्रीकी प्रतिनिधित्व का समर्थन करते हैं.” वुडवर्ड ने यह भी कहा था कि यूके (UK) सदस्यता की गैर-स्थायी श्रेणी के विस्तार का भी समर्थन करता है.

One thought on “UNSC में भारत को स्थायी सदस्यता मिलने का फ्रांस और ब्रिटेन ने किया समर्थन”
  1. […] संयुक्त राष्ट्र मिशन ने कहा कि, “इन कारकों ने कुछ पारंपरिक सामाजिक मानदंडों को मजबूत करने के लिए संयुक्त किया है. जो हिंसा के उपयोग को अनुशासन और नियंत्रण के रूप में स्वीकार करते हैं. एक ऐसा वातावरण बनाते हैं जहां महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा सामान्य हो जाती है.” […]

Leave a Reply