Dutch camp: सैंकड़ों शरण चाहने वालों ने छोड़ा डच शिविर

Dutch camp: डच अधिकारियों ने पूर्वोत्तर नीदरलैंड में एक भीड़भाड़ वाले प्रवासी स्वागत केंद्र के बाहर एक अस्थायी शिविर से लगभग 400 शरण चाहने वालों को स्थानांतरित कर दिया है. जहां सैकड़ों लोग सो रहे थे.

देश के स्वास्थ्य और युवा देखभाल निरीक्षणालय की टीम ने किया निरिक्षण

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, यह कदम तब आया जब देश के स्वास्थ्य और युवा देखभाल निरीक्षणालय की एक टीम ने उत्तरी शहर ग्रोनिंगन के पास टेर अपेल गाँव में अस्थायी, अस्थायी शिविर (Dutch camp) का दौरा किया. जहाँ 700 से अधिक लोग लगभग तीन सप्ताह से सो रहे हैं.

निरीक्षणालय ने कहा कि “केंद्र में स्वच्छता की कुल कमी के परिणामस्वरूप संक्रामक रोगों के प्रकोप का गंभीर खतरा था.” इस सप्ताह टेर अपेल सेंटर के एक स्पोर्ट्स हॉल में तीन महीने के बच्चे की मौत हो गई. अधिकारी मौत के कारणों की जांच कर रहे हैं. दो पुरुषों को भी अस्पताल ले जाया गया.

एक दिल का दौरा पड़ने के लिए और दूसरा मधुमेह के लिए जिसका हफ्तों से इलाज नहीं हुआ था. सरकार के शरण चाहने वाले आवास संगठन के प्रवक्ता लियोन वेल्ड्ट ने शनिवार को कहा, “हमें टेर अपेल में स्थिति धीरे-धीरे सामान्य होने की उम्मीद है.”

वेल्ड्ट ने कहा कि शरणार्थियों को रात भर टेर अपेल से अन्य स्थानों पर वैकल्पिक आवास में ले जाया गया. शरणार्थी अधिवक्ताओं ने टेर अपेल की स्थिति की तुलना ग्रीस और इटली में भीड़भाड़ वाले शिविरों (Dutch camp) से की, जो यूरोप में शरण चाहने वालों के पहले सामान्य गंतव्य हैं.

हालात इतने थे खराब

बता दें की, हालात इतने खराब थे कि डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स की डच शाखा ने गुरुवार को वहां एक टीम भेजी, जो नीदरलैंड में राहत एजेंसी की पहली तैनाती थी. जबकि कई डच कस्बों और शहरों ने अपने देश में युद्ध से भागे यूक्रेनियन को रहने के लिए जगह की पेशकश की है. अन्य देशों के शरण चाहने वालों के लिए स्वागत पतला है.

टेर अपेल में पहुंचने वाले ज्यादातर लोग सीरियाई हैं जो अपने देश के गृहयुद्ध से भाग रहे हैं. डच प्रधान मंत्री मार्क रूट ने शुक्रवार को कहा कि वह टेर अपेल के दृश्यों से शर्मिंदा हैं. और उस रात उनकी सरकार ने देश के शरण चाहने वाले आवास संकट को कम करने के उद्देश्य से कई उपायों की घोषणा की.

उपायों में शरणार्थी परिवार के पुनर्मिलन में अस्थायी रूप से लगाम लगाना और यूरोपीय संघ और तुर्की के बीच 2016 के समझौते के तहत नीदरलैंड के लिए आने वाले प्रवासियों की संख्या शामिल है.

स्थानीय नगर पालिकाओं के साथ सरकार कर रही काम

सरकार ने कहा कि वह स्थानीय नगर पालिकाओं के साथ भी काम कर रही है ताकि शरणार्थी का दर्जा प्राप्त करने वाले लोगों के लिए और अधिक घर बना सकें ताकि वे शरण चाहने वाले केंद्रों से अधिक तेज़ी से बाहर निकल सकें, नए आगमन के लिए जगह खाली कर सकें.

डच सेना को उन लोगों के लिए एक नया शिविर स्थापित करने का भी काम सौंपा गया था. जो टेर अपेल केंद्र में शरण के दावों को दर्ज करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं. शरण चाहने वालों के स्वागत के लिए केंद्रीय एजेंसी के बोर्ड अध्यक्ष मिलो शॉनमेकर ने इस कदम का स्वागत किया.

2 thoughts on “Dutch camp: सैंकड़ों शरण चाहने वालों ने छोड़ा डच शिविर”

Leave a Reply

Your email address will not be published.