September 25, 2022
Droupadi Murmu: द्रौपदी मुर्मू बनी भारत की 15वीं राष्ट्रपति, यशवंत सिन्हा को बड़े अंतर से हराया

Droupadi Murmu: द्रौपदी मुर्मू बनी भारत की 15वीं राष्ट्रपति, यशवंत सिन्हा को बड़े अंतर से हराया

Spread the love

वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त होने वाला है. देश को कुछ समय बाद अपना 15 राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) के रूप में मिल जायेगा।

राष्ट्रपति चुनाव में दो राउंड के वोटों की गिनती पूरी हो गई है जिसमे द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) से एक बड़ी बढ़त बनाये हुए है।

कौन होगा नया राष्ट्रपति हालाँकि इसकी गिनती अभी चालू है लेकिन द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) विपक्षी दलों के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) को बड़ी आसानी से हराकर भारत के 15वें राष्ट्रपति के तौर पर जीत हासिल करेंगी .

Breaking News-

NDA की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू देश की 15 वीं राष्ट्रपति होंगी। वे इस सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचने वाली देश की पहली आदिवासी और दूसरी महिला राष्ट्रपति होंगी। उन्होंने विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को तीसरे राउंड की गिनती में ही हरा दिया।

मुर्मू जी को जीत के लिए जरूरी 5 लाख 43 हजार 261 वोट तीसरे राउंड में ही प्राप्त हो गए थे । उनको तीसरे राउंड में 5 लाख 77 हजार 777 वोट मिले। वहीं यशवंत सिन्हा 2 लाख 61 हजार 62 वोट ही जुटा सके। इसमें राज्यसभा और लोकसभा के सांसदों समेत 20 राज्यों के वोट शामिल हैं। बाकी के राज्यों की गिनती अभी भी जारी है इससे पहले ही उन्होंने जरूरी वोट प्राप्त कर लिए है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जेपी नड्‌डा द्रौपदी मुर्मू से मिलने उनके घर पहुंचे और उनको बधाई दी ।

पहले, दूसरे, तीसरे और चौथे राउंड के चुनावी नतीजों का योग किया जाये तो कुल 4754 वोट डाले गए और इनमें 4701 वोट वैध पाए गए जबकि 53 वोटों को अवैध करार दिया गया है।

जिसमे से द्रौपदी मुर्मू को कुल 2824 वोट मिले। इन मतों का मूल्य 6,76,803 रहा और यशवंत सिन्हा को इन चारों राउंड्स में कुल 1,877 वोट्स मिले हैं। इन मतों का मूल्य 3,80,177 है।

गौरतलब है कि विधायकों और सांसदों के कुल वोट को मिलाकर ‘इलेक्टोरल कॉलेज’ (Electoral College) कहा जाता है। यह संख्या 10,86,431 है। इस संख्या के आधे से ज्यादा वोट यानी 5,43,216 मत पाने वाले उम्मीदवार को राष्ट्रपति चुनाव का विजेता घोषित किया गया।

कौन होगा अगला राष्ट्रपति

ANI की रिपोर्ट के मुताबिक, संसद भवन में राष्ट्रपति चुनाव के लिए हुई वोटिंग की वोटों की गिनती चल रही है. एक तरफ़ है सत्ता पक्ष की द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) और दुसरी तरफ़ हैं विपक्षी दलों के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha).

एनडीए (NDA) की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू अपने प्रतिद्वंद्वी यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) से बढ़त बनाए हुए हैं. मिली जानकारी के मुताबिक, यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) को 537 वोट मिले हैं.

जबकि द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) के खाते में 1349 वोट आए हैं. ऐसा माना जा रहा है की जीत द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) की ही होगी.

ऐसी ख़बरें आ रहीं हैं की, इस बीच ओडिशा के रायरंगपुर गांव में जश्न शुरू हो गया है. द्रौपदी मुर्मू की जीत के आसार मिलते ही लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई है. गांववाले ढोल-नगाड़ो के साथ उनकी जीत का इंतज़ार बेसबरी से कर रहें हैं. बता दें की, संसद भवन (Parilament House) के कमरा नंबर 63 में मतगणना चल रही है.

बता दें की, संसद भवन (Parilament House) के कमरा नंबर 63 को “साइलेंट जोन” घोषित किया गया है. जनता का मानना है की, समाज के वंचित वर्ग, आदिवासियों, महिलाओं और पूर्वी भारत (India) में अपार खुशी है कि पहली बार लोकतंत्र (Democracy) का सही अर्थ सामने आ रहा है. द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) अगर राष्ट्रपति बनती हैं तो वो देश की पहली महिला आदिवासी राष्ट्रपति होंगी.

द्रौपदी मुर्मू की बहू ने कहीं ये बातें

द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) की बहू ने भी अपने विचार साझा किए हैं. और कहा है की, हम सब उनके राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बनने से बहुत खुश हैं. वह महिलाओं के लिए प्रेरणा बन गई हैं. वह हमेशा हमारे खेतों के बारे में पूछती हैं. वह हमेशा गांव के बच्चों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती हैं. वह जब राज्यपाल थीं तो गांव का दौरा जरूर करती थीं.” गृहनगर रायरंगपुर में द्रौपदी मुर्मू के रिश्तेदारों ने भी कईं बातें कहीं हैं.

उनके(Droupadi Murmu) रिश्तेदारों ने कहा की, “द्रौपदी मुर्मू ने साबित कर दिया कि महिलाएं कुछ भी हासिल कर सकती हैं.” उनके रिश्तेदार भी उन पर गर्व कर रहें हैं. बता दें की, राष्ट्रपति चुनाव में हुए मतदान में पहले सांसदों के वोटों की गिनती शुरू हुई थी. द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) के नाम की जब NDA ने घोषणा की थी तभी से वो चर्चा में आ गई थीं. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो कई विपक्षी नेताओं ने भी द्रौपदी मुर्मू का समर्थन किया है.

ऐसा बताया जा रहा है की, अगर यशवंत सिन्हा हारते हैं तो उसका सबसे बड़ा कारण होगा की विपक्ष जल्दि अपने उम्मीदवार का नाम नहीं तय कर पाया. इसके ही चलते विपक्ष को इसका नुकसां भुगतना पड़ेगा.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.