Data Leak: चीन के 1 अरब निवासियों का डेटा लीक, इतिहास का ये सबसे बड़ा डाटा लीक

एक हैकर ने ऐसा दावा किया है की, उसने एक अरब चीनी नागरिकों की व्यक्तिगत जानकारी(Data Leak) हासिल की है. हैकर (Hacker) ने ये दावा शंघाई पुलिस (Shanghai police) से किया है.

जानकारों का मानना है की अगर ऐसा सच में है तो, यह इतिहास के सबसे बड़े डेटा उल्लंघनों (Data Leak) में से एक होगा. इस ख़बर के बाद दुनिया भर में अब सबकी नज़रे चीन (China) पर टिकीं हुईं हैं.

हैकर ने किया ऐसा दावा

बगैर अपनी पहचान जाहिर करे इंटरनेट उपयोगकर्ता जिसको चाइनाडान (Chinadan) के रूप में जाना जाता है. उसने ऐसा दावा किया है की, उसने 10 बिटकॉइन (Bitcoin) के लिए 23 टेराबाइट्स (TB) से अधिक डेटा बेचने की पेशकश की है.

बताया जा रहा है, इसकी कीमत लगभग 200,000 डॉलर के बराबर है. बता दें की, 2022 में शंघाई नेशनल पुलिस (SHGA) डेटाबेस लीक हो गया था. इस डेटाबेस में अरबों चीनी नागरिकों पर कई टीबी डेटा (Data) और जानकारी (Information) शामिल है.

मिली जानकारी के मुताबिक, डेटाबेस (Database) में 1 बिलियन चीनी निवासियों की निजी जानकारी है . इसके साथ इस इनफार्मेशन में शामिल है, नाम, पता, जन्मस्थान, राष्ट्रीय आईडी नंबर, मोबाइल नंबर, सभी अपराध / मामले का विवरण.

बता दें की, वीबो (जो Twitter की तरह चीन अपनी सोशल मीडिया साइट है) पर रविवार दोपहर में हैशटैग “डेटा लीक” (Data Leak) ट्रेंड होने लगा था जिसे बाद में सरकार द्वारा बाद में ब्लॉक कर दिया गया था.

शेफ़र ने कहीं बड़ी बातें

बीजिंग स्थित कंसल्टेंसी (Beijing-based consultancy ) ट्रिवियम चाइना में तकनीकी नीति अनुसंधान के प्रमुख केंद्र शेफ़र (Kendra Schaefer) ने ट्विटर पर एक पोस्ट में कहा की, “अफवाहों की चक्की से सच्चाई का विश्लेषण करना कठिन है.” जानकारी के मुताबिक, शेफर ने कहा कि अगर हैकर (Hacker) ने दावा किया है कि यह जानकारी उसको सुरक्षा मंत्रालय से मिली है तो ये बिलकुल गलत है.

यह बात सही है की, यह इतिहास के सबसे बड़े और सबसे खराब उल्लंघनों में से एक होगा.

Binance के सीईओ झाओ चांगपेंग (Zhao Changpeng, CEO of Binance) का कहना है की, खुफिया जानकारी ने डार्क वेब (Dark Web) पर बिक्री के लिए 1 बिलियन निवासी रिकॉर्ड का पता लगाया है. बता दें की, चीन (China) में 1.4 अरब लोगों का घर है. जिसका सीधा मतलब है की, डेटा उल्लंघन (Data Leak) संभावित रूप से 70 प्रतिशत से अधिक आबादी को प्रभावित कर सकता है.

डाटा लीक की समस्या अब आम हो गई है

एक रिपोर्ट में ऐसा दावा किया गया है की, डेटा  लीक, उल्लंघनों या डाटा (Data) के साथ किसी प्रकार की छेड़छाड़ अब आम बात हो गई है. साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है की सार्वजनिक रूप से इस बात का पता लगा पाना की ये हरकत किसकी है ये अब बहुत ही मुश्किल हो गया है.

एक गंभीर मामला सामने आया था की. जिसमें एक व्यक्ति ने चीन के फ़ायरवॉल से बचने और ट्विटर तक पहुँचने के लिए वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) का उपयोग करने के लिए 2018 डाटा से कुछ छेडछाड़ की थी. उस व्यक्ति को पुलिस ने तत्काल पेश होने के लिए भी कहा था. वो व्यक्ति शंघाई निवासी था. बाद में ऐसी ख़बरें भी आई थी की वो किसी राजनीतिक पार्टी से जुड़ा हुआ था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.