September 26, 2022
टाटा संस के पूर्व चेयरमैन Cyrus Mistry की कार दुर्घटना में हुई मौत

टाटा संस के पूर्व चेयरमैन Cyrus Mistry की कार दुर्घटना में हुई मौत

Spread the love

Cyrus Mistry: भारतीय समूह टाटा संस के 54 वर्षीय पूर्व अध्यक्ष साइरस मिस्त्री की वित्तीय राजधानी मुंबई के पास एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई है. मिस्त्री को 2016 में एक बोर्डरूम तख्तापलट में $ 300bn नमक-से-सॉफ़्टवेयर टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस के अध्यक्ष के रूप में बाहर कर दिया गया था. जिससे एक लंबे समय से चले आ रहे कानूनी विवाद को जन्म दिया गया था. जिस पर भारत की शीर्ष अदालत ने आखिरी में टाटा समूह के फैसले में फैसला सुनाया था.

रविवार को इस जगह पर हुआ हादसा

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, हादसा रविवार दोपहर मुंबई से करीब 100 किलोमीटर (62 मील) उत्तर में स्थित पालघर में हुआ. पालघर जिले के शीर्ष पुलिस अधिकारी बी पाटिल ने कहा कि मिस्त्री (Cyrus Mistry) तीन अन्य लोगों के साथ गुजरात से मुंबई की यात्रा कर रहे थे.

मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मिस्त्री जिस कार में यात्रा कर रहे थे. वह डिवाइडर से जा टकराई और दुर्घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई. मिस्त्री के निधन की खबर मिलने के बाद कई प्रमुख राजनेताओं और उद्योगपतियों ने ट्वीट कर शोक संवेदना व्यक्त की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिस्त्री के निधन को असामयिक और चौंकाने वाला बताया और कहा की,

“वह एक होनहार व्यवसायी नेता थे जो भारत की आर्थिक शक्ति में विश्वास करते थे. उनका निधन वाणिज्य और उद्योग जगत के लिए एक बड़ी क्षति है.”

टीसीएस की तरफ से आया ये बयान

मिस्त्री (Cyrus Mistry) के परिवार और टाटा संस ने टिप्पणी मांगने के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया. टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, जिसमें टाटा संस की बहुमत हिस्सेदारी है. उन्होंने कहा कि वह अपने पूर्व अध्यक्ष के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त कर रही है. यह कहते हुए कि कंपनी उनके परिवार और दोस्तों के लिए अपनी गहरी संवेदना और प्रार्थना कर रही है.

टीसीएस ने एक बयान में कहा की, टीसीएस ने एक बयान में कहा, “वह एक गर्मजोशी भरे, मिलनसार और मिलनसार व्यक्ति थे. जिन्होंने कंपनी के अध्यक्ष के रूप में अपने समय के दौरान टीसीएस परिवार के साथ मजबूत संबंध बनाए.”

मिस्त्री टाटा समूह के छठे अध्यक्ष थे. एक समूह 150 साल पहले शुरू हुआ था और दूसरा टाटा नाम का नहीं था. वह अध्यक्ष के रूप में मिस्त्री के पूर्ववर्ती रतन टाटा के सौतेले भाई नोएल टाटा के बहनोई थे.

मिस्त्री का परिवार 1930 से जुड़ा है टाटा ग्रुप से

जानकारी के लिए बता दें की, मिस्त्री के दादा ने पहली बार 1930 के दशक में टाटा संस में शेयर खरीदे थे. मिस्त्री के पिता द्वारा स्थापित शापूरजी पलोनजी (एसपी) समूह, वर्तमान में लगभग 18 प्रतिशत हिस्सेदारी रखता है. जिससे यह ज्यादातर ट्रस्टों द्वारा नियंत्रित फर्म में सबसे बड़ा एकल शेयरधारक बन जाता है.

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, मिस्त्री के पिता, भारतीय मूल के अरबपति पल्लोनजी मिस्त्री का जून में निधन हो गया था. एसपी ग्रुप, एक इंजीनियरिंग साम्राज्य, 150 साल से भी पहले शुरू हुआ था और आज 50 से अधिक देशों में 50,000 से अधिक लोगों को रोजगार देता है.

इनकी ऐतिहासिक परियोजनाओं में भारतीय रिजर्व बैंक और मुंबई में ओबेरॉय होटल और ओमान के सुल्तान के लिए नीला और सुनहरा अल आलम महल शामिल हैं. देश की सबसे बड़ी निर्माण फर्मों में से एक एसपी ग्रुप और टाटा समूह के बीच दशकों पुराना संबंध उनकी बर्खास्तगी के बाद तनावपूर्ण था. और एसपी समूह तब से टाटा संस से अपने हितों को अलग करना चाहता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.