September 29, 2022
CIA Chief: सीआईए प्रमुख ने कहा की, यूक्रेन संकट के चलते चीन ताइवान पर फिर से कर रहा विचार

CIA Chief: सीआईए प्रमुख ने कहा की, यूक्रेन संकट के चलते चीन ताइवान पर फिर से कर रहा विचार

Spread the love

सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) के प्रमुख (CIA Chief) ने चेतावनी दी है कि चीन ताइवान में बल प्रयोग करने पर मजबूत है. लेकिन यूक्रेन में रूस के अनुभव ने आक्रमण करने के बजाय कब और कैसे बीजिंग की कैलकुलेशन को प्रभावित किया है.

सीआईए के निदेशक (CIA Chief) विलियम बर्न्स ने कहा कि चीन ने यूक्रेन में देखा है कि, “आप जबरदस्त ताकत के साथ त्वरित, निर्णायक जीत हासिल नहीं कर सकते हैं.”

चीन ने ताइवान के स्व-शासित क्षेत्र का किया है दावा

ANI की खबर के अनुसार, चीन ने ताइवान (Taiwan) के स्व-शासित क्षेत्र का दावा किया है. जहां राष्ट्रवादियों ने देश के गृहयुद्ध में कम्युनिस्टों को सत्ता खोने के बाद 1948 में एक सरकार की स्थापना की, यह उसके क्षेत्र का हिस्सा है. और द्वीप पर नियंत्रण करने के लिए बल के उपयोग से इंकार नहीं किया है. एस्पेन सिक्योरिटी फोरम (Aspen Security Forum) में बोलते हुए, बर्न्स (Burns) ने कहा कि, यूक्रेन में रूस के पांच महीने पुराने युद्ध को देखते हुए चीन अशांत था.

जिसे उन्होंने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए रणनीतिक विफलता के रूप में वर्णित किया. क्योंकि उन्हें कीव सरकार को गिराने की उम्मीद थी. बर्न्स ने कहा, “हमारी समझ यह है कि यह शायद चीनी नेतृत्व ताइवान को नियंत्रित करने के लिए बल का इस्तेमाल करने के लिए कुछ वर्षों का रास्ता चुन सकता है. लेकिन सबसे बड़ा सवाल तो ये उठता है की वे इसे कैसे और कब करेंगे.” उन्होंने कहा, “मुझे संदेह है कि चीनी नेतृत्व और सेना जो सबक ले रही है. वह यह है कि यदि आप भविष्य में इस पर विचार करने जा रहे हैं. तो आपको भारी ताकत इकट्ठी करनी होगी.”

अधिकारिक जानकारी के मुताबिक, व्यापार और ताइवान सहित कई मुद्दों पर वाशिंगटन और बीजिंग के बीच जारी तनाव के बीच बर्न्स ने टिप्पणी की है की  संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ एक कॉल की योजना का खुलासा किया है. जो चार महीनों में दोनों नेताओं के बीच पहली बात चीत है.  जो बिडेन (Joe Biden) ने संवाददाताओं से कहा कि, मुझे लगता है कि मैं अगले 10 दिनों के भीतर राष्ट्रपति शी से बात करूंगा.

अमेरिका चीन को अपना मुख्य रणनीतिक प्रतिद्वंद्वी मानता है

Aljazeera में छपी खबर के मुताबिक, अमेरिका चीन को अपना मुख्य रणनीतिक प्रतिद्वंद्वी कहता है. और अमेरिका ऐसा मानता है कि कठिन संबंधों को स्थिर रखने और अनजाने में इसे संघर्ष में बदलने से रोकने के लिए चीन के साथ उच्च स्तरीय जुड़ाव महत्वपूर्ण है. बता दें की, बीजिंग का गुस्सा इस हफ्ते की शुरुआत में उठा था जब यह बताया गया था कि प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने अगले महीने ताइवान का दौरा करने की योजना बनाई है.

विध्वंसक (destroyer) यूएसएस बेनफोल्ड ने ताइवान (Taiwan) जलडमरूमध्य (Taiwan Strait) से यात्रा की है. बता दें की, बर्न्स ने अटकलों को खारिज कर दिया कि “शी इस साल के अंत में कम्युनिस्ट पार्टी की एक प्रमुख बैठक के बाद ताइवान पर एक कदम उठा सकते हैं. लेकिन उन्होंने कहा कि जोखिम अधिक हो जाते हैं. ऐसा लगता है कि इस दशक में आपको और अधिक मिलेगा.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.