Chinese Loan App मामले में ईडी ने बेंगलुरु में छह स्थानों पर की छापेमारी

Chinese Loan App: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को चीनी ऋण ऐप (Chinese Loan App) मामले से संबंधित जांच के संबंध में बेंगलुरु में छह परिसरों में तलाशी अभियान चलाया. एजेंसी ने शनिवार को कहा कि संघीय एजेंसी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए), 2002 के प्रावधानों के तहत छापे मारे थे.

इन जगहों पर हुई थी छापेमारी

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, ईडी ने कहा कि रेजरपे प्राइवेट लिमिटेड, कैशफ्री पेमेंट्स, पेटीएम पेमेंट सर्विसेज लिमिटेड और चीनी व्यक्तियों द्वारा नियंत्रित और संचालित संस्थाओं के परिसरों को तलाशी अभियान में शामिल किया गया था.

ईडी ने कहा कि तलाशी अभियान के दौरान, यह देखा गया है कि जिन संस्थाओं पर छापा मारा गया था. वे विभिन्न मर्चेंट आईडी और पेमेंट गेटवे और बैंकों के खातों के माध्यम से अपराध की आय उत्पन्न कर रहे थे और वे एमसीए की वेबसाइट या पंजीकृत पते पर दिए गए पते से भी काम नहीं कर रहे थे.

एजेंसी ने कहा, “इन चीनी व्यक्तियों द्वारा नियंत्रित संस्थाओं के मर्चेंट आईडी और बैंक खातों में 17 करोड़ रुपये की राशि जब्त की गई है.” यह मामला साइबर अपराध पुलिस स्टेशन, बेंगलुरु शहर द्वारा कई संस्थाओं और व्यक्तियों के खिलाफ दर्ज की गई 18 प्राथमिकी पर आधारित है. जो उन संस्थाओं द्वारा चलाए जा रहे मोबाइल ऐप के माध्यम से जनता के जबरन वसूली और उत्पीड़न में शामिल होने के संबंध में हैं.

संस्थाओं को चीनी व्यक्तियों द्वारा नियंत्रित किया जाता था

पूछताछ के दौरान ईडी ने कहा यह सामने आया है कि इन संस्थाओं को चीनी व्यक्तियों द्वारा नियंत्रित या संचालित (Chinese Loan App) किया जाता है. ईडी ने कहा, “इन संस्थाओं की कार्यप्रणाली भारतीयों के जाली दस्तावेजों का उपयोग करके और उन्हें उन संस्थाओं के डमी निदेशक बनाकर अपराध की आय उत्पन्न कर रही है.”

यह पता चला है कि उक्त संस्थाएं भुगतान गेटवे और बैंकों के पास विभिन्न मर्चेंट आईडी और खातों के माध्यम से अपना संदिग्ध और अवैध व्यवसाय कर रही थीं. जानकारी के लिए बता दें की, इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) ने शनिवार को 500 करोड़ रुपये के कर्ज से जुड़े एक घोटाले का भंडाफोड़ किया था. दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ के अनुसार, इस घोटाले में चीनी कनेक्शन वाले तत्काल ऋण आवेदनों के विभिन्न मॉड्यूल शामिल थे.

पुलिस ने पिछले दो महीने में 22 लोगों को किया था गिरफ्तार

बता दें की, पुलिस ने पिछले दो महीने में 22 लोगों को गिरफ्तार किया था. जो चीनी नागरिकों के इशारे पर काम कर रहे थे. एक अधिकारी ने शनिवार को कहा कि उन्होंने हवाला के जरिए या क्रिप्टो-मुद्रा में निवेश करके चीन को कथित तौर पर 500 करोड़ रुपये की हेराफेरी की थी.

स्पेशल सेल दिल्ली की रिपोर्ट के अनुसार, इंस्टेंट लोन ऐप में राइज़ कैश ऐप, पीपी मनी ऐप, रुपये मास्टर ऐप, कैश रे ऐप, मोबीपॉकेट ऐप, पापा मनी ऐप, इन्फिनिटी कैश ऐप और बहुत कुछ शामिल थे.

ये एप थे शामिल

  • नकद ऐप बढ़ाएँ
  • पीपी मनी ऐप
  • रुपये मास्टर ऐप
  • कैश रे ऐप
  • मोबीपॉकेट ऐप
  • पापा मनी ऐप
  • इन्फिनिटी कैश ऐप
  • क्रेडिट मैंगो ऐप
  • क्रेडिट मार्वल ऐप
  • सीबी ऋण ऐप
  • नकद अग्रिम ऐप
  • एचडीबी ऋण ऐप
  • कैश ट्री ऐप
  • रॉ लोन ऐप

Leave a Reply