China-Taiwan Tension: चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच ताइवान ने अपने रक्षा बजट बढ़ाने का रखा प्रस्ताव

China-Taiwan Tension: चीन द्वारा अपने संप्रभु क्षेत्र के रूप में देखे जाने वाले द्वीप के चारों ओर बड़े पैमाने पर युद्ध के खेल का मंचन करने के बाद, ताइवान (China-Taiwan Tension) ने गुरुवार को अगले वर्ष के लिए रक्षा खर्च में $ 19 बिलियन का प्रस्ताव रखा.

2017 के बाद से रक्षा खर्च में ताइवान लगातार कर रहा बढ़ोतरी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ताइवान के बजट में दो अंकों की वृद्धि अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी की ताइपे यात्रा के कारण बढ़े चीनी आक्रमण के बाद हुई है. 2017 के बाद से रक्षा खर्च में द्वीप के लगातार छठे वर्ष में वृद्धि को चिह्नित करते हुए, बजट में लड़ाकू जेट और अन्य उपकरणों के लिए खर्च में अतिरिक्त टी $ 108.3 बिलियन शामिल है.

हाल के वर्षों में द्वीप के रक्षा खर्च में वृद्धि की तुलना में, 2022 में दोहरे अंकों की वृद्धि में तेज वृद्धि हुई है क्योंकि साल-दर-साल 13.9 प्रतिशत की वृद्धि इसे $ 586.3 बिलियन ($ 19.41 बिलियन) का रिकॉर्ड बना देगी.

इस बात पर प्रकाश डालते हुए कि रक्षा खर्च मुख्य रूप से परिचालन लागत पर जाएगा, सांख्यिकी विभाग के मंत्री चू त्ज़र-मिंग ने कहा, “हम हमेशा सुरक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते है. इसलिए परिचालन लागत बहुत बढ़ जाती है.”

इस साल रक्षा पर 7.1 प्रतिशत अधिक खर्च करेगा चीन

बता दें की, सामाजिक कल्याण और शिक्षा पर संयुक्त खर्च के बाद, प्रस्तावित बजट अगले वर्ष के लिए सरकार के कुल खर्च का 14.6 प्रतिशत है और यह चौथा सबसे बड़ा खर्च करने वाला खंड है.

1.45 ट्रिलियन युआन (211.62 बिलियन डॉलर) खर्च करने का आंकड़ा निर्धारित करते हुए, चीन ने कहा कि वह इस साल रक्षा पर 7.1 प्रतिशत अधिक खर्च करेगा. मिसाइल जैसे हथियारों में और अधिक प्रयास करके, जो अपने विशाल पड़ोसी के क्षेत्र में भय पैदा कर सकता है.

ताइवान चीन के उन्नत उपकरणों का मुकाबला करने की कोशिश कर रहा है. यह कहते हुए कि पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना ने कभी द्वीप पर शासन नहीं किया, ताइवान ने बीजिंग के संप्रभुता के दावों को खारिज कर दिया. अपनी संप्रभुता की रक्षा करने के दृढ़ संकल्प को दोहराते हुए, राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं.

ऐसे हैं चीन और ताइवान के रिश्ते

चीन और ताइवान के बीच में काफ़ी समय से तनाव चल रहा है. चीन ने ताइवान को हमेशा से अपने ऐसे प्रांत के रूप में देखा है जो उससे अलग हो गया. चीन मानता रहा है कि भविष्य में ताइवान चीन का हिस्सा बन जाएगा. जबकि ताइवान की एक बड़ी आबादी अपने आपको एक अलग देश के रूप में देखना चाहती है. यही वजह रही है दोनों के बीच तनाव की.

अमेरिका प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ताइवान पहुंचीं, जिसके बाद से ताइवान की चर्चा होने लगी थी. नैंसी पेलोसी के ताइवान में जाने से चीन की भी बौखलाहट सामने आने लग गई थी. इसके बाद अब चीन लगातार धमकी दे रहा है और सैन्य अभ्यास भी शुरू कर दिया था.

करीब 610 से 907 ईस्वी के बीच जब चीन (China-Taiwan Tension) में तांग राजवंश था. उस वक्त चीन के लोग ताइवान में बसने लग गए थे. उस वक्त चीन एक डच उपनिवेश था. रिपोर्ट्स के अनुसार, 1894 में चीन और जापान के कुछ साम्राज्य के बीच जंग हुई और जापानी सेना से हार मिलने के बाद चीन में राजनीतिक विद्रोह की शुरुआत हो गई थी.

One thought on “China-Taiwan Tension: चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच ताइवान ने अपने रक्षा बजट बढ़ाने का रखा प्रस्ताव”

Leave a Reply