China: चीन ने बैंक के सामने तैनात किए टैंक, लोगों को बैंक से पैसे निकालने के लिए रोका

भारत के सभी पड़ोसी मुल्कों की हालत गंभीर हो गई है. बता दें की, अब इसमें चीन (China) भी शामिल हो गया. बता दें की, चीन ने अब बैंक के सामने टैंक तैनात कर दिए है. ऐसा बताया जा रहा है की, यहां एक बैंक की स्थानीय शाखा को बचाने के लिए टैंक उतार दिए गए हैं.

चीन (China) के हेनान प्रांत में पिछले कई हफ्तों से पुलिस और जमाकर्ताओं के बीच झड़पें हो रही हैं. इस लिए चीन ने ये कदम उठाया है.

China ने तैनात किए टैंक

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, चीन (China) ने बैंको के सामने टैंक तैनात कर दिए हैं. देश के हेनान प्रांत (Henan province) में पिछले कई हफ्तों से पुलिस और जमाकर्ताओं के बीच झड़पें हो रही है. जिसमें कहा गया है कि उन्हें इस साल अप्रैल से बैंकों (Bank) से अपनी बचत वापस लेने से रोका गया है. चीन की इस हरकत का विडियो सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है.

बता दें की, वायरल विडियो में देखा जा सकता है की, चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के टैंकों को प्रदर्शनकारियों को डराने के लिए सड़कों पर तैनात देखा जा सकता है. बैंक (Bank) जमाकर्ताओं द्वारा अपने जमे हुए धन को जारी करने को लेकर प्रांत में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो, बैंकों की सुरक्षा और स्थानीय लोगों को बैंकों तक पहुंचने से रोकने के लिए टैंक सड़कों पर उतरे थे.

यह प्रकरण बैंक ऑफ चाइना (Bank Of China) की हेनान शाखा (Henan province) का है. इस बैंक का कहना है की निवेश उत्पाद (Investment products) के अंतर्गत आती है. इसलिए यहाँ से पैसों को नहीं निकाला जा सकता है. चीन को लेकर में भारी गुस्सा देखा जा रहा है. चीन का लगातार विरोध हो रहा है. पहले ये विरोध कोरोना में बंदी को लेकर था अब दूसरा ऐसा विडियो विरोध प्रदर्शन का सामने आया है जिसमें साफ़ दिख रहा है की बैंक के आगे सैन्य टैंक तैनात हैं.

इतिहास खुद को दोहराने के लिए है तैयार

कई जानकार मान रहें हैं की चीन अब अपना इतिहास दोहराने के लिए तैयार है. दरअसल, 4 जून 1989 चीन (China) की दमनकारी कार्रवाई की एक गंभीर याद दिलाता है. तियानमेन स्क्वायर नरसंहार (Tiananmen Square massacre) तब किया गया था जब चीनी नेताओं ने टैंकों और भारी हथियारों से लैस सैनिकों को बीजिंग के तियानमेन स्क्वायर (Tiananmen Square) को खाली करने के लिए भेजा था.

बता दें की, वहाँ पर छात्र प्रदर्शनकारी लोकतंत्र और अधिक स्वतंत्रता की मांग के लिए हफ्तों तक एकत्र हुए थे. बता दें की, तियानमेन चौक (Tiananmen square) पर हमले की 33वीं वर्षगांठ पर दुनिया ने प्रसिद्ध टैंक मैन के साहस को याद किया गया. जो एक सेना के सामने मजबूती से खड़ा था. जिसकी छवि 20वीं सदी के प्रतीकों में से एक बन गई है.

हेनान की राजधानी  झेंग्झौ में एक विरोध प्रदर्शन के बाद  हिंसक हो गया. अधिकारी द्वारा बताया गया है की, बैंक में जमा पहली किश्त लोगों को 15 जुलाई को देदी गई है. लेकिन कुछ धनराशि अभी बची है जिसका विरोध लोग कर रहें हैं. ऐसे में जनता सवाल ये उठा रही है की अब बैंक के पास पैसे बचे ही नहीं हैं.

Leave a Reply