BRI में चीन ने अपनी निवेश की रफ़्तार की धीमी, कोरोना महामारी और यूक्रेन युद्ध का असर चीन पर भी दिख रहा

कोरोना महामारी और रूस-यूक्रेन युद्ध ने दुनिया में उथल पुथल मचा रखी है. इस बीच चीन की बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) में निवेश की रफ़्तार को धीमा कर दिया है. चीन के COVID-19 लॉकडाउन से पैदा हुई अनिश्चितता ने न केवल चीन के विकास अनुमानों को बल्कि वैश्विक निवेश को भी नियंत्रित किया है.

जोखिमों में हुई है वृद्धि

ANI से मिली जानकारी के मुताबिक, इन सभी कारणों की वजह से वित्तीय जोखिमों में काफी वृद्धि की है. विशेष रूप से उभरते बाजारों में जो मुद्रास्फीति (inflation), (खाद्य, ईंधन में विशेष रूप से प्रासंगिक), विनिमय दर जोखिम (exchange rate risks) और संप्रभु ऋण जोखिम (sovereign debt risks) के ट्रिपल संकट का सामना कर रहे हैं.

ग्रीन फाइनेंस एंड डेवलपमेंट सेंटर के एक अध्ययन के अनुसार, फुडन विश्वविद्यालय से संबद्ध  चीन के बेल्ट एंड रोड वित्तपोषण और निवेश बीआरआई (BRI) के भाग लेने वाले 147 देशों में 2022 की पहली छमाही में गिर गया. इस अवधि के दौरान वित्त पोषण (period financing) और निवेश 28.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर दर्ज किया गया.

जबकि एक साल पहले इसी अवधि में यह 29.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर था. यूरोपियन टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार,  2019 में इसी अवधि की तुलना में पहली छमाही के आंकड़े 40 प्रतिशत कम थे. इसके अलावा, पहले छह महीनों में रूस, श्रीलंका और मिस्र में कोई नया खर्च नहीं हुआ. बीआरआई (BRI) निवेश में गिरावट का रुझान 2022 की दूसरी छमाही में भी जारी रहने की संभावना है.

कोयला परियोजना रही ठप्प

मिली जानकारी के मुताबिक, लगभग 11.8 बिलियन अमरीकी डालर निवेश की ओर गया और 16.5 बिलियन अमरीकी डालर निर्माण अनुबंधों में चला गया जो आंशिक रूप से चीनी ऋणों द्वारा वित्तपोषित था. 2022 की पहली छमाही में किसी भी कोयला परियोजना को वित्त पोषण या निवेश नहीं मिला.

इस बीच, कार्बन उत्सर्जन को और कम करने की चीन की प्रतिबद्धता 2022 की पहली छमाही में ग्रीन एनर्जी टोटल एंगेजमेंट (सौर, पवन, हाइड्रो) के रूप में सेट किए गए डेटा के साथ अच्छी तरह से नहीं बढ़ी. ये 2021 की पहली छमाही की तुलना में 22% गिरकर लगभग USD 3 हो गई थी.

अगर अधिकारिक रिपोर्ट्स की माने तो, चीन द्वारा ढोल पीटने के बावजूद, निर्माण परियोजनाओं के लिए औसत सौदे का आकार छोटा होता जा रहा है. जो 2021 में 558 मिलियन अमरीकी डालर से गिरकर 2022 की पहली छमाही में 325 मिलियन अमरीकी डालर हो गया है.

विदेशी विस्तार पर लगा है लगाम

चीन की हालत वैसे भी गंभीर होती जा रही है. इसी बीच बता दें की, घर में गंभीर आर्थिक स्थिति को देखते हुए, चीनी बीआरआई जुड़ाव 2018-2019 के स्तर तक पहुंचने की उम्मीद है. चीनी वाणिज्य मंत्रालय (MOFCOM) की भी मान्यता है, जिसने 2021 से 2025 के लिए अपनी 14वीं पंचवर्षीय योजना (FYP) में तेजी से विदेशी विस्तार पर विराम लगाया है.

चीन के लिए 550 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश करने की योजना बना रहा है (जिसमें शामिल है) गैर-बीआरआई देश), 2016-2020 की अवधि में 740 बिलियन अमरीकी डालर से 25 प्रतिशत कम है. चीनी अनुबंध (Chinese contracting) की मात्रा पिछले FYP में USD 800 बिलियन से इस FYP में USD 700 बिलियन तक घटने की योजना है.

यह भी देखा गया है कि हाल के वर्षों में, चीन अपनी घरेलू आर्थिक चुनौतियों और कई मेजबान देशों में बीआरआई के खिलाफ बढ़ती प्रतिक्रिया को देखते हुए अपनी बीआरआई परियोजनाओं के संबंध में अधिक जोखिम से ग्रस्त हो गया है.

One thought on “BRI में चीन ने अपनी निवेश की रफ़्तार की धीमी, कोरोना महामारी और यूक्रेन युद्ध का असर चीन पर भी दिख रहा”

Leave a Reply

Your email address will not be published.