Bangladesh के ढाका में शुरू हुई पहली मेट्रो लाइन

Bangladesh: बांग्लादेश (Bangladesh) ने अपनी विशाल राजधानी में पहली मेट्रो रेल सेवा चलाना शुरू कर दिया है. बांग्लादेश (Bangladesh) ने भीड़भाड़ को कम करने के लिए मेट्रो की शुरुवात की है. बांग्लादेश (Bangladesh) के ढाका दुनिया के सबसे घनी आबादी वाले शहरों में से एक है. और यहाँ की कार से भरी सड़कों पर दैनिक आवागमन इसके 22 मिलियन लोगों के लिए निरंतर निराशा का स्रोत रहा है.

Bangladesh में शुरू हुई मेट्रो सेवा

स्थाई मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, देश (Bangladesh) की पहली एलिवेटेड मेट्रो रेल का उद्घाटन बुधवार को प्रधानमंत्री शेख हसीना ने किया है. बताया जा रहा है की, यह ढाका के यातायात संकट को कम करेगा. पीएम ने डियाबारी से अगरगांव तक मेट्रो रेल प्रोजेक्ट की मास रैपिड ट्रांजिट (MRT) लाइन-6 के 11.73 किलोमीटर के हिस्से का उद्घाटन किया है.

बांग्लादेश (Bangladesh) की पीएम ने टिकट खरीदने के बाद उत्तरा के दियाबारी से अगरगांव तक मेट्रो रेल की पहली आधिकारिक सवारी की. इस मौके पर पीएम की छोटी बहन शेख रेहाना सहित कई अन्य अधिकारी मौजूद थे.

ट्रैफिक की वजह से इतना होता है बांग्लादेश को नुकसान

बांग्लादेश (Bangladesh) की पीएम शेख हसीना ने मेट्रो के उद्घाटन को चिह्नित करने के लिए टका 50 का एक स्मारक बैंकनोट भी जारी किया है. बाद में उन्होंने उत्तरा के दियाबारी खेल के मैदान में एक रैली को संबोधित किया. मरियम अफिजा मेट्रो की पहली परिचालक बनीं. लोग कल से मेट्रो ट्रेन की सवारी शुरू कर सकते हैं.

Bangladesh के ढाका में शुरू हुई पहली मेट्रो लाइन
Bangladesh के ढाका में शुरू हुई पहली मेट्रो लाइन

स्थानीय शोधकर्ताओं का कहना है कि राजधानी की अर्थव्यवस्था को हर साल ट्रैफिक जाम के कारण काम के समय के नुकसान में $ 3 बिलियन से ऊपर का नुकसान होता है. अक्सर नियमित सड़क विरोध और मानसून की बारिश से स्थिति और खराब हो जाती है.

2030 तक 100 से ज्यादा स्टेशन होंगे बांग्लादेश में

एलिवेटेड ट्रेन नेटवर्क लगभग एक दशक से विकास में था और 2030 तक शहर में 100 से अधिक स्टेशनों और छह लाइनों के विकसित होने की उम्मीद है. बुधवार को ढाका की परिधि पर शहर के केंद्र के साथ एक अपस्केल पड़ोस को जोड़ने वाली पहली लाइन के एक हिस्से पर परिचालन शुरू हुआ. यह 2.8 अरब डॉलर की लागत से बनाया गया था. बताया जाता है की, यह बड़े पैमाने पर जापानी विकास कोष द्वारा वित्त पोषित है.

प्रधानमंत्री शेख हसीना ने सेवा की शुरुआत को चिह्नित करने के लिए एक समारोह में कहा है की, “मेट्रो प्रणाली हमारे लिए गर्व की बात है.”  सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी ढाका मास ट्रांजिट कंपनी लिमिटेड (DMTCL) मेट्रो रेल परियोजना को लागू कर रही है.

यह मेट्रो प्रति घंटे 60,000 यात्रियों और प्रति दिन आधा मिलियन यात्रियों को ले जाने में सक्षम होगी

जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (JICA) मेट्रो रेल का निर्माण कर रही है. और परियोजना के लिए सॉफ्ट लोन प्रदान कर रही है. एमआरटी लाइन-6 का निर्माण कार्य 2016 में शुरू हुआ था.

अगरगांव से मोतीझील तक मेट्रो रेल का दूसरा खंड और मोतीझील से कमलापुर रेलवे स्टेशन तक तीसरा खंड चरणों में शुरू किया जाएगा. अगरगांव से मोतीझील तक मेट्रो रेल अगले साल दिसंबर में शुरू हो जाएगी. यह प्रति घंटे 60,000 यात्रियों और प्रति दिन आधा मिलियन यात्रियों को ले जाने में सक्षम होगा. और ट्रेनें हर चार मिनट में प्रत्येक स्टेशन पर पहुंचेंगी.

Leave a Reply