अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) ने प्रौद्योगिकी प्रदर्शनी(Technology exhibition) विवाटेक(Vivatech) 2022 में भारत पवेलियन का उद्घाटन किया है. अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) ने कहा की, यूरोप(Europe) का सबसे बड़ा स्टार्ट-अप सम्मेलन विवाटेक(Vivatech) 2022 भारत को “वर्ष के देश”(Country of the year) के रूप में मान्यता दी है.

अश्विनी वैष्णव ने कहीं बड़ी बातें

अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) ने कहा की,“यह भारत के लिए विवाटेक 2022 के लिए वर्ष के देश के रूप में पहचाना जाने वाला एक बड़ा सम्मान है.  यह दुनिया में भारतीय स्टार्ट-अप के योगदान के कारण है. यह भारतीय स्टार्ट-अप की मान्यता है. हमने शुरू किया है इस रोमांचक यात्रा पर.” इसके साथ ही उन्होंने कहा की, “एक यात्रा जिसकी यदि आप एक अरब स्मार्टफोन, बैंक खाते और अरबों से अधिक डिजिटल पहचान को जोड़ते हैं तो इस संयोजन से जो समाधान निकल रहे हैं वे अद्वितीय हैं.

अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) का कहना है की, दुनिया में कहीं भी आपको वह पैमाना नहीं मिलेगा जो हमारे पास भारत(India) में है. बता दें की इससे पहले रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) ने दिल्ली(Delhi) से भारतीय रेलवे(Indian Railway) के लिए स्टार्टअप का शुभारंभ किया है. उन्होंने कहा कि कई स्टार्ट-अप्स ने पहले ही राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से जुड़ना शुरू कर दिया है. विवाटेक 2022 में सरकारी सहयोग से भारत के लगभग 65 स्टार्ट-अप भाग ले रहे हैं.

5G की सौकत का भी हो चुगा है एलान

ANI की रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा है कि भारत को 5G सेवाएं मार्च 2023 तक मिलेंगी. एक दिन पहले ही कैबिनेट ने 5G स्पेक्ट्रम के लिए नीलामी को मंजूरी दी है. रेल, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने समाचार एजेंसी ANI को बताया, “दूरसंचार डिजिटल खपत का प्राथमिक स्रोत है और दूरसंचार में विश्वसनीय समाधान लाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव(Ashwini Vaishnav) ने कहा कि 5G सर्विस को रोल-आउट पर्याप्त बैकहॉल स्पेक्ट्रम की उपलब्धता भी आवश्यक है. इसकी मांग को पूरी करने के लिए मंत्रिमंडल ने दूरसंचार सर्विस ऑपरेटरों को ई-बैंड(E-Band) में प्रत्येक 250 मेगाहर्ट्ज(MegaHertz) के 2 वाहक अस्थायी रूप से आवंटित करने का निर्णय लिया है.

Leave a Reply