Al-Burhan: अल-बुरहान ने कहा की सेना हट रही हैं पीछे

Al-Burhan: सूडान (Sudan) के तख्तापलट के नेता जनरल अब्देल फतह अल-बुरहान (Al-Burhan) ने कहा है कि सेना अब सारी जिम्मेदारियां सरकार को सौपने जा रहीं हैं. हालाँकि, राजनीतिक वार्ता चल रही है और जल्दी ही सेना सरकार बनाने की अनुमति देगी.

लोकतांत्रिक शासन आएगा वापस

सोमवार को जनरल (Al-Burhan)  ने बयान दिया की, लोकतंत्र समर्थक आंदोलन बहुत ही घातक साबित हुआ है. इसको मद्देनजर रखते हुए सेना ने ये फ़ैसला लिया है. बता दें की, सेना शासन के चलते सूडान (Sudan) में विरोध प्रदर्शन बहुत ही उग्र हो गया था. सूडान (Sudan) की डॉक्टर्स कमेटी के अनुसार, प्रदर्शनों पर सुरक्षा बलों की कार्रवाई में नौ लोग मारे गए हैं. और कम से कम 629 घायल हुए हैं.

अल-बुरहान (Al-Burhan) ने एक टेलीविज़न संबोधन में कहा की, “चुनावों में काम करने के लिए सेना की प्रतिबद्धता की पुष्टि करते हुए जिसमें सूडानी लोग चुनते हैं कि कौन उन्हें शासित करेगा.” उन्होंने कहा कि नई सरकार के गठन के बाद अल-बुरहान के नेतृत्व वाली और सैन्य सरकार से नागरिक सदस्यों से युक्त सत्तारूढ़ संप्रभु परिषद को भंग कर दिया जाएगा.

सरकार और सेना मिलकर करेंगी काम

सैन्य नेता (Al-Burhan) ने कहा कि, सरकार बनने के बाद सशस्त्र बलों की एक नई सर्वोच्च परिषद बनाई जाएगी और यह सरकार के साथ समझौते में सुरक्षा और रक्षा कार्यों में मिलकर काम करेंगी. इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि राजनीतिक वार्ता से सेना की वापसी का उद्देश्य राजनीतिक और क्रांतिकारी समूहों को टेक्नोक्रेट सरकार (technocrat government) बनाने की अनुमति देना था.

अल-बुरहान ने समूहों से “एक तत्काल और गंभीर बातचीत शुरू करने का आह्वान किया है. जो सभी को लोकतांत्रिक संक्रमण के रास्ते पर वापस लाता है.” सेना वार्ता के परिणामों को लागू करने के लिए प्रतिबद्ध होगी उन्होंने कहा, हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि भविष्य में सशस्त्र बलों की कितनी राजनीतिक भूमिका होगी. बता दें की, अक्टूबर 2021 में सेना द्वारा सत्ता पर कब्जा करने के बाद से अधिकारियों ने घातक दमन के साथ लगभग साप्ताहिक सड़क विरोध का सामना किया है. जिसमें अब तक 18 बच्चों सहित 113 लोग मारे गए हैं.

Leave a Reply